‘कुछ तो गड़बड़ है दया’ पता करो CID बंद क्यों हुआ?

  • 27 अक्तूबर 2018
सी आई डी इमेज कॉपीरइट TWITTER
Image caption दयानंद शेट्टी निभाते थे सीनियर इंस्पेक्टर दया का किरदार

अब एसीपी प्रद्युम्न हर तहक़ीक़ात से पहले 'कुछ तो गड़बड़ है दया' ये बोलते नज़र नहीं आएंगे, अब दया दरवाज़ा तोड़ते नहीं दिखेंगे क्योंकि सोनी चैनल का शो 'सीआईडी' 21 साल बाद ऑफ़ एयर हो गया है.

1997 में पहली बार सोनी चैनल पर प्रसारित होने वाले इस धारावाहिक से पहले टीवी पर कई क्राइम शो आए, लेकिन देखते-देखते बीपी सिंह निर्देशित सीआईडी शो अपने समय में सबसे मशहूर क्राइम शो बन गया.

21 साल बाद इसको बंद क्यों किया गया? भला इसकी तहकीकात कौन करेगा? कुछ तो गड़बड़ है दया!

चलिए, एसीपी प्रद्युम्न की भूमिका हम निभाते हैं और पता करते हैं कि क्या 'गड़बड़' हुई.

इमेज कॉपीरइट TWITTER
Image caption शिवाजी सतम निभाते थे ए सी पी प्रद्युम्न का किरदार

क्यों बंद किया गया 'सीआईडी' शो

इस शो में सीनियर इंस्पेक्टर दया की भूमिका निभाने वाले दयानंद शेट्टी ने बीबीसी से ख़ास बातचीत की और बताया कि शो को बंद कराने के पीछे 'किसका हाथ था.'

भले ही इस शो के प्रोड्यूसर्स ने सीआईडी के बंद होने की घोषणा की, लेकिन दयानंद शेट्टी के मुताबिक़ इस शो को बंद करने की बात क़रीब दो साल पहले से ही चल रही थी.

उन्होंने बताया कि सोनी चैनल इस शो को बंद करने के लिए दो साल से लगा हुआ था, लेकिन वह इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं ठहराए जाना चाहते थे और इसलिए चाहते थे कि प्रोड्यूसर्स ख़ुद इसे बंद करे.

उन्होंने कहा, "हमारा शो शुक्रवार, शनिवार और रविवार को प्रसारित होता था. धीरे-धीरे सोनी ने शुक्रवार को प्रसारित करना बंद कर दिया. फिर कभी शनिवार को बंद कर देते तो कभी रविवार को."

वह ऐसा करने के पीछे कारण देते कि इस शो की टीआरपी नहीं आ रही है. जबकि दयानंद शेट्टी के मुताबिक़ शो का हाल सोनी के और शो के मुक़ाबले ठीक था. टीआरपी के मामले में बाकी शो से काफ़ी सही प्रदर्शन कर रहा था.

इमेज कॉपीरइट TWITTER
Image caption 21 साल तक सोनी चैनल पर चला 'सीआईडी' शो

बच्चा-बच्चा 'सीआईडी' का फ़ैन

वह कहते हैं, 'लेकिन चैनल ने सोच लिया था कि शो अब बूढ़ा हो चला है तो बंद करना चाहिए. जबकि आज भी छोटे-छोटे बच्चे ये शो देखते हैं.'

जब शो बंद होने की ख़बर सामने आई तो सोशल मीडिया पर लोगों ने इस तरह से अपनी प्रतिक्रिया दी:

लोगों ने #SaveCid के कैंपेन को अपना समर्थन दिया.

दयानंद शेट्टी बच्चों के शुक्रगुज़ार होते हुए कहते हैं कि 'इस शो को शुरू से ही बच्चों का साथ मिला और अब भी मिल रहा है. बच्चों ने ही इस शो को खड़ा किया.'

उन्होंने बताया कि उनके पड़ोस में रहने वाला 7 साल का एक बच्चा इस शो से इस कदर जुड़ गया कि यू-ट्यूब पर सीआईडी के पुराने एपिसोड को ढ़ूंढ-ढ़ूंढ कर देखता है.

लेकिन बच्चों के बीच प्रसिद्ध ये शो 21 साल का हो गया था और चैनल को पुराना लगने लगा था.

इमेज कॉपीरइट TWITTER
Image caption सीआईडी के सबसे प्रसिद्ध किरदार थे- अभिजीत, एसीपी प्रद्युम्न और सीनियर इंस्पेक्टर दया

क्या 'सीआईडी रिटर्न्स' की उम्मीद रखें फ़ैन्स?

दयानंद शेट्टी बताते हैं कि इस शो के बंद होने के बाद जो चीज़ वह सबसे ज़्यादा मिस करेंगे वो होगी सेट पर सबके साथ बैठकर खाना खाना.

वह सीआईडी को एक बहुत बड़ा परिवार बताते हैं और आशा करते हैं कि इस शो के ऑफ़ एयर होने के बाद ये परिवार ऐसा ही बना रहेगा.

जब उनसे पूछा गया कि 'सीआईडी रिटर्न्स' की कोई उम्मीद है तो उन्होंने कहा कि मुश्किल है, अब सीआईडी अगर आएगा लौटकर तो सोनी पर तो नहीं आएगा. हो सकता है किसी और नाम से, अलग़ अंदाज़ में एक वेब सिरीज़ के तर्ज पर भी आ सकता है, लेकिन फिलहाल कुछ पक्के तौर पर नहीं कह सकते.

उन्होंने बताया कि शो के क्रिएटिव टीम और प्रोड्यूसर्स के बीच बात चल रही है.

ये भी पढ़ें

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे