कादर ख़ान के बारे में अफ़वाह, बेटे ने कहा झूठी हैं

  • 31 दिसंबर 2018
कादर ख़ान इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिंदी सिनेमा के मशहूर अभिनेता कादर ख़ान बीमार हैं और कनाडा के एक अस्पताल में भर्ती हैं.

कादर ख़ान के अस्पताल में भर्ती होने के बाद सोशल मीडिया पर रविवार को उनके निधन की अफ़वाह फैल गई थी जिसे बाद में उनके बेटे सरफ़राज़ ने खारिज कर दिया.

सरफ़राज़ ने बीबीसी को बताया कि उनके पिता के निधन की ख़बर झूठी है. वो कनाडा में एक अस्पताल में भर्ती हैं.

कादर ख़ान की सेहत पिछले कुछ दिनों से चर्चा में है और सोशल मीडिया पर उनकी सेहत को लेकर ट्वीट किए जा रहे हैं.

अभिनेता अमिताभ बच्चन और अभिनेत्री रवीना टंडन ने ट्वीट कर उनके स्वास्थ्य में बेहतरी के लिए प्रार्थना की.

अमिताभ बच्चन ने ट्वीट किया, ''अपार प्रतिभा वाले अभिनेता और लेखक अस्पताल में भर्ती हैं. उनके बेहतर स्वास्थ्य और जल्द ठीक होने के लिए प्रार्थनाएं और दुआएं. उन्हें स्टेज पर काम करते देखा, मेरी फ़िल्मों के लिए शानदार लेखन किया... एक महानी साथी.. और बहुत कम लोग जानते हैं, गणित पढ़ाने वाले.''

वहीं, रवीना टंडन ने ट्वीट किया, ''कादर जी, आप हमारी ज़हन में और प्रार्थनाओं में हैं. आपके जल्दी ठीक होने की कामना करती हूं. हमने साथ में कुछ गज़ब की फ़िल्में की हैं और यह जानकारी बहुत खुशी होगी कि आप पूरी तरह ठीक हैं.''

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कादर खान को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. उन्हें डॉक्टर्स ने रेग्यूलर वेंटिलेटर से हटाकर बीआईपीएपी वेंटिलेटर पर रख​ दिया है.

इमेज कॉपीरइट SAJID NADIADWALA

बताया जा रहा है कि कादर ख़ान को प्रोग्रेसिव सुप्रान्यूक्लियर पाल्सी नाम की बीमारी है, जिसमें संतुलन बनाने और चलने में दिक्कत होती है. इसमें भूलने की बीमारी भी हो जाती है.

81 साल के कादर खान अपने बेटे और बहू के साथ कनाडा में रह रहे हैं.

हिंदी सिनेमा में अपनी गहरी छाप छोड़ने वाले कादर ख़ान का जन्म अफ़ग़ानिस्तान के काबुल में हुआ था. उन्होंने सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री ली और कुछ समय तक पढ़ाते भी रहे. लेकिन, थियेटर और लेखन में रूचि के कारण उन्होंने सिनेमा जगत में कदम रखा.

वह अब तक 300 फ़िल्मों में काम कर चुके हैं और उन्होंने कई फ़िल्मों के लिए लेखन भी किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे