राजकुमार हिरानी यौन उत्पीड़न के आरोपों पर क्या बोले

  • 14 जनवरी 2019
राजकुमार हीरानी इमेज कॉपीरइट Twitter/RajkumarHirani

पीके और मुन्ना भाई एमबीबीएस जैसी फ़िल्में बनाने वाले फ़िल्म निर्माता राजकुमार हिरानी पर एक महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है.

'संजू' फ़िल्म में हिरानी के साथ काम कर चुकी इस महिला ने एक वेबसाइट पर अपने आलेख में खुद को हिरानी की असिस्टेंट बताया है.

इस महिला ने आरोप लगाया है कि मार्च से सितंबर 2018 के बीच एक से अधिक बार हिरानी ने उसका यौन उत्पीड़न किया.

वहीं, हिरानी ने इन आरोपों को नकार दिया है. उन्होंने कहा है कि ये सभी आरोप उनकी छवि खऱाब करने के इरादे से लगाए गए हैं.

राजकुमार हिरानी ने आरोप लगने के बाद बयान जारी कर कहा, "जब लगभग दो महीने पहले मुझे इन आरोपों के बारे में पता चला तो मैं स्तब्ध रह गया. मैंने तत्काल ही इस मामले को किसी कमेटी या कानूनी संस्था के संज्ञान में लाने की सलाह दी थी. लेकिन शिकायतकर्ता ने इसकी जगह मीडिया में जाने का फ़ैसला किया. मैं ज़ोर देकर कहना चाहता हूं कि ये एक झूठी, द्वेषपूर्ण और शरारतपूर्ण कहानी है जिसे फैलाने का एकमात्र उद्देश्य मेरी छवि को धूमिल करना है."

हिरानी के वकील आनंद देसाई ने आरोप को "ग़लत, नुकसान पहुंचाने और मानहानि करने वाला" बताया है.

इससे पहले बॉलीवुड के तमाम दूसरे सितारों पर भी यौन उत्पीड़न के आरोप लग चुके हैं.

नाना पाटेकर

अमरीका में शुरू हुए #MeToo अभियान ने पिछले साल सितम्बर के महीने में भारत में तब दस्तक दी जब फ़िल्म अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने दस साल पहले हुए एक मामले में नाना पाटेकर के ख़िलाफ़ उत्पीड़न के आरोप लगाए.

फ़िल्म 'आशिक बनाया आपने' से मशहूर हुईं तनुश्री दत्ता के मुताबिक़, हॉर्न ओके प्लीज़ फ़िल्म की शूटिंग के दौरान नाना पाटेकर ने उनसे बदसलूकी की थी.

इमेज कॉपीरइट Facebook/Nikhil Gangavane

बाद में तनुश्री ने इस मामले में मुक़दमा भी दर्ज कराया.

शुरुआत में नाना पाटेकर इन आरोपों पर कुछ भी बोलने से बचते रहे, फिर उन्होंने इसे झूठा करार दिया था.

आलोक नाथ

62 साल के आलोकनाथ पर प्रोड्यूसर विंता नंदा ने 20 साल पुराने मामले में बलात्कार के आरोप लगाए थे.

अक्तूबर, 2018 में एक फ़ेसबुक पोस्ट में विंता नंदा ने सीधे तौर पर नाम न लिखते हुए अपने शो 'तारा' में मुख्य किरदार निभा रहे अभिनेता पर यौन उत्पीड़न और बलात्कार के आरोप लगाए थे.

हालांकि आलोक नाथ सभी आरोपों का खंडन कर चुके हैं और बाद में उन्होंने विंता के ख़िलाफ़ मानहानि का केस भी दर्ज किया था.

विंता ने भी इस मामले में मुकदमा दर्ज कराया था, जिस पर सुनवाई करते हुए मुंबई की दिंदोशी सत्र अदालत ने आलोकनाथ को अग्रिम ज़मानत दे दी.

विकास बहल

फ़िल्म निर्देशक विकास बहल का नाम भी मीटू अभियान में सामने आया.

हफ़िंगटन पोस्ट इंडिया को दिए इंटरव्यू में फ़ैंटम प्रोडक्शन हाउस की पूर्व महिलाकर्मी ने विकास बहल पर मई 2015 में गोवा के एक होटल में यौन हमले का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उस महिला ने कहा है कि यौन हमले की शिकायत उन्होंने फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप से की थी, लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की. उस महिला ने 2017 में फ़ैंटम को छोड़ दिया था.

इस शिकायत की पुष्टि करते हुए अनुराग कश्यप ने कहा है कि जो भी हुआ वो ग़लत था.

फ़िल्म 'क्वीन' की अभिनेत्री कंगना रनौत ने भी विकास बहल पर इस मामले में कई सवाल खड़े किए थे. कंगना ने यह भी कहा कि 2015 में 'बॉम्बे वेलवेट' फ़िल्म के प्रमोशनल टूर में उन्हें विकास बहल के कारण असहज होना पड़ा था.

अनु मलिक

#MeToo अभियान में संगीतकार अनु मलिक पर सिंगर सोना महापात्रा और श्वेता पंडित ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे.

सिंगर श्वेता पंडित ने अपना अनुभव ट्विटर पर पोस्ट किया था.

श्वेता ने लिखा था, ''साल 2000 में 'मोहब्बतें' फ़िल्म के साथ मेरे करियर की शुरुआत हुई. मैं नए अच्छे गानों की तलाश में थी ताकि सफलता को कायम रख सकूं. मुझे उस वक़्त अनु मलिक के मैनेजर की तरफ़ से फ़ोन आया. 2001 में मुझे अंधेरी के एंपायर स्टूडियो में बुलाया गया. एक केबिन में सिर्फ़ मैं और अनु मलिक थे. अनु ने बिना संगीत के मुझसे गाने के लिए कहा. गाना सुनकर अनु ने कहा- मैं तुम्हें शान और सुनिधि के साथ एक गाना दूंगा, लेकिन पहले मुझे किस करो. ये कहकर अनु मुस्कुरा रहे थे, मेरी याद में ये बेहद बुरी मुस्कान थी. मैं तब सिर्फ़ 15 साल की थी. स्कूल जाती थी. कोई कल्पना नहीं कर सकता कि वो कैसा पल था?''

सोना महापात्रा ने भी अनु मलिक पर गंभीर आरोप लगाए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोना ने लिखा था, ''जो भी लड़कियां अपने अनुभव साझा कर रही हैं, वो अकेली नहीं हैं. इस इंडस्ट्री में और भी अनु मलिक हैं. मैं 18 घंटे काम करती हूं, इसलिए ऐसे हर इंसान के बारे में ट्वीट नहीं कर सकती.''

वक़ीलों के बयान के मुताबिक़, ''अनु मलिक पर लगाए आरोप झूठे और बेबुनियाद हैं. अनु मलिक मी-टू अभियान का सम्मान करते हैं, लेकिन इस अभियान का इस्तेमाल किसी के चरित्र हनन के लिए करना ग़लत है.''

इन आरोपों के बाद सोनी टीवी ने एक बयान जारी कर अनु मलिक को इंडियन आइडल के जूरी पैनल से हटा दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार