सबसे अधिक उम्र की अभिनेत्री कामिनी कौशल

  • 27 फरवरी 2019
कामिनी कौशल इमेज कॉपीरइट Pradeep Sardana/BBC

अशोक कुमार, दिलीप कुमार, राज कपूर और देव आनंद जैसे सितारों की नायिका रह चुकी कामिनी कौशल आज बॉलीवुड में सबसे वरिष्ठ, सबसे अधिक उम्र की अभिनेत्री हैं.

बिराज बहू, शहीद, जिद्दी, नीचा नगर, नदिया के पार और आरजू जैसी ओल्ड क्लासिक फिल्मों की नायिका कामिनी कौशल 92 बरस की हैं.

कामिनी कौशल का मूल नाम उमा कश्यप है. जिनका जन्म 25 फ़रवरी 1927 को लाहौर में हुआ था. जिस ज़माने में लड़कियों को ज़्यादा पढ़ाना भी अच्छा नहीं माना जाता था, उस ज़माने में उमा ने अंग्रेज़ी साहित्य में बीए किया. साथ ही तैराकी, घुड़सवारी,स्कीइंग, पेंटिंग और भरतनाट्यम नृत्य जैसी बहुत सी कलाओं में दिलचस्पी ली और इन सबको भी सीखा.

असल में उमा कश्यप उन प्रोफ़ेसर शिव राम कश्यप की बेटी हैं, जिन्होंने कृषि, बॉटनी में कई महान कार्य किये और जिन्हें 'फ़ादर ऑफ़ बॉटनी' भी कहा जाता है. प्रोफ़ेसर कश्यप ने लड़की-लड़के का भेदभाव किये बिना अपने सभी बच्चों को उच्च शिक्षा देने के साथ वह सब करने की पूरी आज़ादी दी, जो उनके बच्चे करना चाहते थे.

यही कारण था कि उमा को फ़िल्मों में आने के लिए भी उन्हें अपने परिवार की ओर से प्रोत्साहन मिला. जबकि उमा फ़िल्मों में ख़ुद नहीं आना चाहती थीं.

चेतन आनंद से मिला नाम

उमा कश्यप को कामिनी कौशल नाम भी फ़िल्मकार चेतन आनंद ने दिया, जिनके साथ उन्होंने पहली फ़िल्म की 'नीचा नगर'. सन 1946 में प्रदर्शित 'नीचा नगर' ने कान फ़िल्म समारोह में 'गोल्डन पाम' जैसा प्रतिष्ठित पुरस्कार पाकर, भारतीय सिनेमा को पहली बार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ी ख्याति दिलाई थी.

कामिनी कौशल की साल 1946 से शुरू हुई वह अभिनय यात्रा देखा जाए तो आजतक जारी है.

पहले उन्होंने नायिका के रूप में कई फ़िल्में कीं. एक बार तो यह तक हो गया था कि उनके नायक दिलीप कुमार उनसे शादी करना चाहते थे. लेकिन परिस्थितियाँ ऐसे बनी कि अपनी बहन के अचानक निधन के बाद उन्होंने अपने जीजा बी एस सूद से शादी कर ली. जिससे अपनी बहन की दो छोटी बेटियों की देखभाल वह ख़ुद कर सकें.

कामिनी कौशल ऐसी हीरोइन रही हैं जो शादी के बाद भी नायिका के रूप में बेहद सफल रहीं.

अपनी 'बिराज बहू' फ़िल्म के लिए तो सन 1956 में सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म अभिनेत्री का फ़िल्मफेयर पुरस्कार भी मिला. बाद में कामिनी कौशल ने उपकार, वारिस, दो रास्ते, यादगार, पूरब और पश्चिम, उपहार, शोर, रोटी कपडा और मकान, संन्यासी, प्रेम नगर और स्वर्ग नर्क जैसी बहुत सी फ़िल्मों में चरित्र भूमिकाओं में अपनी दूसरी पारी खेली.

अब भी वह यदा कदा सीरियल और फ़िल्में करती रहती हैं. कुछ बरस पहले कामिनी जी 'लागा चुनरी में दाग़' और पीछे शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्म 'चेन्नई एक्सप्रेस' में भी वह एक विशिष्ट भूमिका में नज़र आयीं.

बहुमुखी प्रतिभा की धनी कामिनी कौशल बेशक 92 बरस की हो गयी हैं, लेकिन आज भी वह पहले की तरह ख़ूबसूरत हैं और फिट भी.

इस महान अभिनेत्री से मुझे बात करके हमेशा अच्छा लगता रहा है. पिछले दिनों मैंने एक अरसे बाद उनके मुंबई स्थित घर में जाकर उनसे ख़ास मुलाक़ात की. उनसे हुई बातचीत की कुछ ख़ास बातें आपसे साझा कर रहा हूँ-

आपने अपना यह जन्म दिन कैसे मनाया, कोई ख़ास तैयारी ?

अपना जन्म दिन बस अपने परिवार के साथ मनाया. जन्म दिन के पहले बहुत हंगामे हो चुके हैं, अब तो शान्ति से ही मनाना पसंद है. शांत रहने का समय है. इसी में आनंद आता है. पीछे मैंने बच्चों के कहने पर अपना जन्म दिन क्लब हाउस में बड़ी पार्टी देकर मनाया था. पर मैंने देखा तब शोर शराबा ज्यादा हो जाता है. ऐसे में मेहमानों के साथ क्या अपने परिवार के सदस्यों तक से बातचीत नहीं हो सकती. इसलिए जन्मदिन की शाम को सिर्फ परिवार के साथ घर पर ही सेलिब्रेशन हुआ.

इस बार शाम की पार्टी में क्या क्या बना, आपका मनपसंद ?

मुझे किचन से दूर रखा गया है. वैसे मैं खुद कुकिंग करती रहती हूँ. केक भी खुद बनाती हूँ. लेकिन मेरे बेटे राहुल ने कहा है मैं खुद कुछ नहीं बनाउंगी. सिर्फ आराम करुँगी. इसलिए जो भी बनेगा बच्चे ही बनवायेंगे. मुझे ख़ुशी है कि मुझे बहुत अच्छे बच्चे मिले हैं. मेरा सभी बहुत ख्याल रखते हैं. दो बेटे अमेरिका और इंग्लैंड में रहते हैं. लेकिन मुझे बराबर फ़ोन करते हैं. लन्दन में सबसे छोटा बेटा है विदुर.वह तो हर रोज सुबह बिना नागा किये फ़ोन करता है. मेरे दिन की शुरुआत उसीके फ़ोन से होती है. अब भी जन्म दिन की शुभकामनाएं दी हैं सभी ने.

पिछली बार तो मुझे याद है आपको अमिताभ बच्चन ने भी अपनी शुभकामनाओं के साथ बहुत लम्बा चौड़ा पेड़नुमा गुलदस्ता भेजा था!

हँसते हुए..हाँ बिलकुल पेड़ सा था वह. अमिताभ बच्चन मुझे बहुत सम्मान देते हैं. अपनी इतनी व्यस्तताओं के बीच भी उन्हें मेरा जन्म दिन याद रहना और शुभकामनाएं भेजना अच्छा लगता है. असल में उनके परिवार और हमारे बीच पुराने सम्बन्ध हैं. उनकी माँ तेजी बच्चन और मेरी बड़ी बहन उषा लाहौर में कॉलेज के जमाने से अच्छी दोस्त थीं.

फिर जया भादुड़ी ने पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट से प्रशिक्षण लेने के बाद मुंबई लौटने पर जो अपनी पहली फिल्म 'उपहार' की थी, उसमें भी आप उनके साथ थीं!

हाँ 'उपहार' में तो साथ थी ही बाद में भी उनके साथ फिल्म की. जया और अभिषेक के साथ 'लागा चुनरी में दाग' भी की. लेकिन मैं आपको बताऊँ, पूना फिल्म इंस्टीट्यूट में भी जया का सलेक्शन मैंने ही किया था. मैं तब उनकी सलेक्शन कमेटी में थी. तब उनकी अमिताभ से शादी भी नहीं हुई थी. हालांकि आज उनसे ज्यादा मिलना जुलना नहीं हो पाता. लेकिन हम जब भी कभी मिलते हैं तो अच्छे से मिलते हैं.

इन दिनों फिल्म इंडस्ट्री के पुराने लोगों में आपका किन लोगों से मिलना जुलना होता है?

मेरी ज्यादा दोस्ती फिल्म इंडस्ट्री में किसी से नहीं रही. सिर्फ शादी समारोह में ही लोगों से मिलना हो पाता है. वैसे भी मैं मालाबार हिल पर रहती हूँ, इधर अब फ़िल्मी दुनिया के लोग बहुत कम ही रहे, जो दो चार थे, अब वे भी नहीं रहे. फिर किसी मिलने का सोचा जाए तो सब दूर दूर रहते हैं. हाँ अभी पेडर रोड पर राष्ट्रीय फ़िल्म संग्रहालय का उदघाटन हुआ तो उसमें मुझे बुलाया तो मैं गयी थी. तब कई नए-पुराने लोगों से मिलना हुआ. मनोज कुमार भी मिले थे. जिनके साथ मैंने बहुत सी फ़िल्में की हैं.

इस समारोह में प्रधानमन्त्री मोदी जी से भी मुलाक़ात हुई होगी ?

मुलाकात हुई तो लेकिन दो मिनट की, कुछ लोगों ने मोदी जी और मेरे फोटो भी लिए. असल में तब हर कोई मोदी जी से मिलना चाहता था. प्रधानमंत्री मोदी बहुत ही अच्छे और पॉजिटिव इंसान हैं. उनका काम भी मैं पसंद करती हूँ.

इमेज कॉपीरइट KAMINI KAUSHAL/BBC

दिलीप कुमार जी से कभी आपका मिलना होता है ?

दिलीप साहब तो अब काफी बीमार रहते हैं. उन्हें मिलकर क्यों तकलीफ दी जाए. वैसे भी वह लोगों से ज्यादातर मिलते नहीं. जब वे ठीक थे तो कभी कभार मिलना हो जाता था.

इन दिनों आपकी क्या दिनचर्या रहती है. पहले तो आप अपने सीरियल भी बना रही थीं. पपेट भी आपने बहुत बनायीं, पपेट शो भी किये. अब भी क्या पपेट आदि बनाती हैं?

नहीं अब पपेट नहीं बनाती. मेरे पास अभी भी मेरी बनायी बहुत सी पपेट हैं. लेकिन नयी अब नहीं बनाती. मैं वैसे कुछ न कुछ करती रहती हूँ. मुझे पेट्स पालने का भी पुराना शौक है. इन दिनों मैंने एक बिल्ली को पाला हुआ है. हालांकि इस बिल्ली को मैंने इसलिए रखा कि मेरे ड्राइंग रूम में दो कौवों ने अपना घर बना लिया है. वे मेरे गार्डेन में आते थे तो मैंने उनको कुछ खाना देना शुरू कर दिया. लेकिन यह देख उन्होंने मेरे घर में ही अपना ठिकाना जमा लिया. इससे मैं अब ढंग से सो भी नहीं पाती, बैठ भी नहीं पाती. दोनों कौवे बहुत शोर करते हैं. मैंने इसलिए बिल्ली रखी कि कौवे उससे डर कर भाग जायेंगे लेकिन बिल्ली औए कौवों में दोस्ती हो गयी है. कौवे बिल्ली से डरते ही नहीं, बिल्ली उल्टा उनकी मदद करती है.

आप पूजा पाठ भी करती हैं ?

बिलकुल करती हूँ. हालांकि वह सब मेरा बेहद निजी मामला है. मैं भगवान् की पूजा का प्रदर्शन नहीं करती. मैंने घर में अपना छोटा सा मंदिर भी अपने बेडरूम में बनवाया हुआ है. मैं किसी को उसकी फोटोग्राफी भी नहीं करने देती. लेकिन मैं आपको बताऊँ मेरे मंदिर में आज भी वह शिवलिंग है जो मेरे पापा गोमुख से लाये थे.

इमेज कॉपीरइट KAMINI KAUSHAL/BBC

वह गोमुख जाने वाले पहले लोगों में से थे. तब हम लाहौर में रहते थे. लेकिन जब विभाजन के बाद हम इधर आए तो मैं वह शिवलिंग अपने साथ ले आई. वह शिवलिंग अब 100 साल पुराना हो गया होगा, लेकिन मैंने आज भी उसे बहुत श्रद्दा से अपने पास रखा है.

मधुबाला-दिलीप कुमार की शादी क्यों नहीं हुई

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार