हैदराबाद रेप: बयान देकर घिरीं जया बच्चन

  • 3 दिसंबर 2019
जया बच्चन इमेज कॉपीरइट Getty Images

हैदराबाद रेप और हत्या मामले में सांसदों और आम लोगों की तरफ़ से सड़क पर तत्काल सज़ा देने की मांग हो रही है.

संसद में राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने सोमवार को कहा था कि हैदराबाद रेप के दोषियों को सड़क पर लाकर लिंच कर देना चाहिए.

जया बच्चन जानी-मानी अदाकारा हैं और बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता अमिताभ बच्चन की पत्नी हैं. जया बच्चन के इस बयान से बहस शुरू हो गई है कि क्या ऐसी सज़ा से रेप के वाक़ये कम हो जाएंगे?

पाकिस्तानी लेखक इफ़त हसन रिज़वी ने ट्वीट कर जया बच्चन के बयान को आड़े हाथों लिया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा है, ''भारतीय सांसद जया बच्चन ने संसद में कहा कि बलात्कारियों को सार्वजनिक रूप से सरेआम सड़क पर पीट-पीटकर मार देना चाहिए. क्या इंसाफ़ के नाम पर क्रूरतम कार्रवाई लिंचिंग भारत के लिए न्यू नॉर्मल है? अभिनेत्री से नेता बनीं जया बच्चन का यह बहुत ही अटपटा सुझाव है.''

पत्रकार सुचेता दलाल ने भी जया बच्चन के सुझाव का विरोध किया है. सुचेता ने ट्वीट कर कहा है, ''लोग उन्मादी हो गए हैं! हां, हम ग़ुस्से में हैं! हाँ, हम जल्दी इंसाफ़ चाहते हैं. लेकिन हम ये नहीं चाहते कि भारत लिंचिस्तान न बने. आप इस चीज़ को प्रोत्साहित न करें कि बिना कोई जांच के संदिग्धों को लिंच करने का साहस मिले.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

फ़िल्मकार अपर्णा सेन ने ट्वीट कर पूछा है, ''डॉ रेड्डी के साथ रेप और हत्या मामले में दोषियों को शायद फांसी मिल जाएगी. पूरा देश इनकी बर्बरता के कारण सख़्त सज़ा चाहता है. यह भयावह अपराध भी है. लेकिन इसके बाद क्या? क्या इसके बाद कोई रेप नहीं होगा? रेप के जुर्म में कमी आएगी?''

जया बच्चन के अलावा टीएमसी सांसद मिमी चक्रव्रती ने भी इस मामले के दोषियों को सरेआम सड़क लिंच करने की मांग की है. जया बच्चन ने संसद के बाहर भी कहा था कि अगर आप सुरक्षा नहीं दे सकते हैं तो लोगों को फ़ैसला देने के लिए छोड़ दीजिए.

डीएमके सांसद पी विल्सन ने इस मामले में कहा था कि कोर्ट को यह अधिकार दिया जाना चाहिए कि वो बलात्कारियों को नपुंसक बनाने के आदेश दे. विल्सन ने कहा कि जेल से बाहर निकलने से पहले बलात्करारियों को नपुंसक बना देना चाहिए.

28 नवंबर को हैदराबाद में 26 साल की एक डॉक्टर का जला हुआ शव बरामद हुआ था. जांच में पता चला कि महिला के साथ रेप हुआ था और बाद में हत्या करने के बाद जला दिया था. यह अपराध हैदराबाद में एक टोल प्लाज़ के पास हुआ जहां वो लड़की फँसी हुई थी.

अपराध को अंजाम देने वाले लड़की को मदद देने के नाम पर साथ आए थे. सभी संदिग्धों को गिरफ़्तार कर लिया गया है और उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. लड़की ने अपनी स्कूटर को प्लाज़ा के पास पार्क किया था तभी संदिग्धों ने इसे अंजाम देने की ज़मीन तैयार कर ली थी. इस मामले में चार संदिग्धों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

हैदराबाद रेप मामले में बॉलीवुड से कई कलाकारों ने सोशल मीडिया पर ग़ुस्से का इज़हार किया है. अभिनेत्री रिचा चड्ढा ने कहा कि उस लड़की की एकमात्र ग़लती यह थी कि उसने उन पुरुषों पर भरोसा किया.

इसके साथ ही इस मामले में अक्षय कुमार, फरहान अख़्तर और सलमान ख़ान ने भी इस बर्बर रेप की निंदा की है. इन सबने दोषियों को कड़ी सज़ा देने की मांग की है.

इसी तरह का एक ट्वीट फ़िल्म कबीर सिंह के निर्देशक संदीप रेड्डी वांगा की तरफ़ से आया है. संदीप का कहना है कि डर के ज़रिए ही समाज में बदलाव लाया जा सकता है.

संदीप रेड्डी ने ट्वीट किया है, ''डर एकमात्र ज़रिया है जिससे समाज में तेज़ी से बदलाव लाया जा सकता है. डर ही समाज का नया नियम होना चाहिए. क्रूर सज़ा देकर इस मामले में मिसाल पेश करनी चाहिए. इस देश की सभी लड़कियों को सुरक्षा की गारंटी मिलनी चाहिए. मैं वारंगल पुलिस से तत्काल कार्रवाई की अपील करता हूं.''

संदीप के ट्वीट पर फ़िल्मकार विक्रमादित्य मोटवाने और गायिका सोना महापात्रा ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. सोना महापात्रा ने संदीप रेड्डी को जवाब देते हुए लिखा है, ''पहले तो आप महिला विरोधी फ़िल्में बनाना बंद कीजिए.''

जब संदीप रेड्डी की फ़िल्म कबीर सिंह को लेकर भी काफ़ी विवाद हुआ था. कई लोगों ने कहा था कि यह फ़िल्म महिलाओं के ख़िलाफ़ हिंसा के लिए प्रेरित करती है. हालांकि संदीप रेड्डी ने जवाब में कहा था कि जो भी फ़िल्म की आलोचना कर रहे हैं वो सही आलोचना नहीं कर रहे हैं.

संदीप रेड्डी के ट्वीट पर फ़िल्मकार विक्रम मोटवाने ने निशाना साधते हुए कहा, ''क्या इस डर से वो थप्पड़ खाने से बच जाती?''

अभिनेता फ़रहान अख़्तर ने भी ट्वीट कर इस पर ग़ुस्सा ज़ाहिर किया है. फ़रहान ने ट्वीट कर कहा है, ''निर्भया के चार बलात्कारियों को दोषी ठहराए जाने के बाद फांसी की सज़ा मिली. सात साल हो गए हैं लेकिन सभी ज़िंदा हैं. न्याय का पहिया काफ़ी धीमा है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे