राज कपूर की वो रूसी हीरोइन अब कहां हैं?

  • 14 दिसंबर 2019
इमेज कॉपीरइट Kseniya Ryabinkina

'मैं तूमसे बहूत प्यार करती हूं'

जब मैंने रूसी अभिनेत्री और मशहूर बैले डांसर सेनिया रेबेंकीना से पूछा कि क्या आप हिंदी में कुछ बोल सकती हैं तो उन्होंने जवाब में ये लाइन कही.

सेनिया, राज कपूर की 1970 में आई मशहूर फ़िल्म 'मेरा नाम जोकर' में काम कर चुकी हैं. फ़िल्म में उन्होंने सर्कस में काम करने वाली एक डांसर का किरदार अदा किया है जिसे राजू (राज कपूर) से इश्क़ हो जाता है.

14 दिसंबर को राज कपूर का 95वां जन्मदिन है. ऐसे में मैंने कुछ दिनों पहले सोचा कि अगर सेनिया से राज कपूर के बारे में और उनके साथ काम करने के अनुभव के बारे में बात की जाए तो ये काफ़ी दिलचस्प रहेगा.

मगर उनके बारे में पता लगाना ख़ासा मुश्किल साबित होने वाला था.

वो अब कहां हैं क्या करती हैं और मुझसे बात करना चाहेंगी भी या नहीं, क्योंकि 'मेरा नाम जोकर' में चर्चित भूमिका के बावजूद सेनिया हिंदी फ़िल्मों से ग़ायब ही हो गईं.

ये भी पढ़ें: 'मुग़ले आज़म' में पृथ्वी राज को कितने पैसे मिले?

इमेज कॉपीरइट Kseniya Ryabinkina

ऐसे हुआ संपर्क

मैंने कपूर परिवार से भी संपर्क साधने की कोशिश की और उनके बेटे और मशहूर अभिनेता ऋषि कपूर से जानना चाहा कि क्या वो सेनिया के संपर्क में हैं लेकिन ऋषि कपूर ने जवाब दिया कि फ़िलहाल उनके पास सेनिया से जुड़ी कोई जानकारी नहीं है.

तब मैंने बीबीसी रूसी सेवा से संपर्क साधा और उन्होंने आख़िर सेनिया का नंबर खोज निकाला. मैंने थोड़ा झिझकते हुए उनको फ़ोन पर मैसेज किया कि क्या वो हमसे राज कपूर के बारे में बात करना चाहेंगी.

मैसेज भेजने के सिर्फ़ आधा घंटे के अंदर ही उनका जवाब आ गया, "मुझे राज कपूर के बारे में बात करने पर बेहद ख़ुशी होगी. लेकिन फ़िलहाल मैं इटली में हूं और छुट्टियां मना रही हूं. आप मुझे 3-4 दिन बाद फ़ोन कर सकते हैं तब तक मैं मास्को लौट जाऊंगी और इत्मीनान से आपसे बात करूंगी."

ये भी पढ़ें: नरगिस के बालों में लगा बेसन और राज कपूर का इश्क़

इमेज कॉपीरइट Kseniya Ryabinkina

मैंने हफ़्ते भर बाद उनको फ़ोन मिलाया तो उन्होंने मुझसे काफ़ी टूटी-फ़ूटी अंग्रेज़ी में बात करते हुए कहा, "देखिए मेरी अंग्रेज़ी बहुत ख़राब है. मैं आपसे कैसे बात कर पाऊंगी? मैं तो रूसी भाषा बोलती हूं."

मैंने जवाब दिया कि आप कम से कम ख़राब अंग्रेज़ी बोल तो लेती हैं लेकिन मैं तो रूसी भाषा का एक शब्द भी नहीं बोल सकता तो मजबूरन मुझे आपसे अंग्रेज़ी में ही बात करनी पड़ेगी.

मैंने उनको टूटी-फूटी अंग्रेज़ी बोलने की छूट दे दी जिसे उन्होंने ख़ुशी-ख़ुशी कबूल कर लिया और हमारी बातें चालू हो गईं.

सेनिया फ़िलहाल अपने वतन रूस में ही रहती हैं और 74 साल की उम्र में भी बैले डांसिग के अपने शौक को उन्होंने ज़िंदा रखा है.

इमेज कॉपीरइट Kseniya Ryabinkina
Image caption 'मेरा नाम जोकर' की टीम के साथ सेनिया रेबेंकीना (सबसे बाएं)

राज कपूर से मुलाक़ात

सेनिया ने बताया कि वो तब 24-25 साल की थीं जब राज कपूर से उनकी पहली मुलाक़ात हुई. राज कपूर 'मेरा नाम जोकर' की तैयारियां कर रहे थे और मॉस्को आए हुए थे. एक शाम उन्होंने सेनिया का बैले डांस देखा और उनसे ख़ासे प्रभावित हुए.

उन्होंने सेनिया को अपनी फ़िल्म में काम करने का प्रस्ताव दिया. सेनिया राज कपूर के नाम से वाक़िफ़ थीं क्योंकि उनकी फ़िल्में 'आवारा' और 'श्री 420' रूस में बहुत मशहूर रही थीं और उनके गाने रूसी लोग गुनगुनाते रहते थे.

सेनिया ने ये ऑफ़र स्वीकार कर लिया और वो शूटिंग के लिए भारत आ गईं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
राज कपूर का गाना गुनगुनाती रूस की लड़की
इमेज कॉपीरइट Kseniya Ryabinkina
Image caption अभिनेता दारा सिंह के साथ सेनिया रेबेंकीना

'सबका ध्यान रखते थे राज कपूर'

हालांकि फ़िल्म में उनका ज़्यादा बड़ा रोल नहीं था लेकिन वो इस अनुभव को यादगार मानती हैं. वो कहती हैं, "सेट पर राज कपूर सबका बड़ा ध्यान रखते थे. उनके सेट पर चाहे बड़ा कलाकार हो या कोई जूनियर. सबको एक सा ट्रीटमेंट मिलता था. लेकिन एक बार कैमरा चालू हो जाने पर वो बड़े कठोर हो जाते और जब तक कोई बेस्ट शॉट ना दे दे, संतुष्ट नहीं होते थे."

सेनिया बताती हैं कि रूस में अब के युवा ज़रूर हॉलीवुड फ़िल्में ही ज़्यादा देखते हैं लेकिन 60 और 70 के दशक में राज कपूर रूस में एक बहुत बड़ा नाम थे और उनकी फ़िल्में वहां बहुत हिट होती थीं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
राजकपूर की 93वीं जयंति के मौके पर बीबीसी की ख़ास पेशकश
इमेज कॉपीरइट Kseniya Ryabinkina
Image caption सेनिया अब 74 साल की हो चुकी हैं. वो मॉस्को में रहती हैं.

कपूर परिवार से दोस्ती

सेनिया 'मेरा नाम जोकर' की शूटिंग के बाद रूस तो चली गईं और बैले डांसिग में अपने करियर को जारी रखा. वो राज कपूर और उनके परिवार के संपर्क में भी रहीं.

वो बताती हैं कि जब भी वो भारत आतीं तो राज कपूर के परिवार से ज़रूर मिलतीं. वो कपूर परिवार की मेज़बानी की बहुत तारीफ़ करती हैं.

साल 1988 में जब राज कपूर की मौत का समाचार उन्हें मिला तो उन्हें बड़ा धक्का लगा था.

सेनिया बताती हैं कि राज कपूर की मौत के बाद भी वो कई फ़िल्म समारोहों में हिस्सा लेने जब भी भारत आतीं तो राज कपूर के बेटों रणधीर, ऋषि और राजीव कपूर से उनकी मुलाक़ात होती.

'मेरा नाम जोकर' के 39 सालों बाद साल 2009 में उनके बेटे ऋषि कपूर की फ़िल्म 'चिंटू जी' में सेनिया रेबेंकीना ने एक छोटी सी भूमिका अदा की थी.

ये भी पढ़ें: राज कपूरः विदेशी शराब पीते थे लेकिन ज़मीन पर सोते थे

इमेज कॉपीरइट Kseniya Ryabinkina
Image caption अभिनेता धर्मेंद्र के साथ सेनिया रेबेंकीना

'धर्मेंद्र ग़ज़ब के हैंडसम'

'मेरा नाम जोकर' में धर्मेंद्र भी अहम भूमिका में थे. सेनिया रेबेंकीना कहती हैं, "धर्मेंद्र ग़जब के हैंडसम हीरो थे. मैं उनकी स्मार्टनेस की कायल हूं."

इनके अलावा वो और किस भारतीय कलाकार के बारे में जानती हैं? ये पूछने पर सेनिया ने बताया कि वो फ़िल्मकार सत्यजीत रे को जानती हैं और उनकी कुछ फ़िल्में देख चुकी हैं. वो सत्यजीत रे से मिल भी चुकी हैं.

इसके अलावा वो अमिताभ बच्चन को भी जानती हैं. इसके अलावा वो और किसी भारतीय कलाकार से वो वाकिफ़ नहीं हैं.

आख़िर में मैंने पूछा कि राज कपूर के लिए क्या वो कोई गाना गुनगुना चाहेंगी? सेनिया ने जवाब में हिचकते-झिझकते गाना गाया, "जीना यहां मरना यहां, इसके सिवा जाना कहां."

ये भी पढ़ें: क्या आज भी है रूस में बॉलीवुड का जादू?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार