किरण की कचहरी

किरण बेदी
Image caption किरण बेदी इस कार्यक्रम के माध्यम से घरेलू मुद्दे सुलझाती हैं

किरण बेदी का टीवी कार्यक्रम 'आपकी कचहरी: किरण के साथ' फिर से शुरु होने जा रहा है. इस कार्यक्रम में किरण आम लोगों के आपसी मुद्दे सुलझाती हैं.

सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी और सामाजिक कार्यकर्ता किरण बेदी का मानना है कि आम जनता में का़नून की ज़्यादा समझ नहीं है और कइयों को ये भी मालूम नहीं कि वो अपनी परेशानियां लेकर कहां जाएं.

ऐसे में वो चाहती हैं कि उनका ये कार्यक्रम लोगों की मदद करे.

इस 'रिएलिटी शो' में देश भर से लोग अपनी समस्याएँ और आपसी विवाद किरण के पास लेकर आते हैं और किरण दोनों पक्षों को सुनकर उन्हें सुलझाने की कोशिश करती हैं.

किरण बेदी कहती हैं कि इस कार्यक्रम के दौरान उन्हें कई पेचीदा मामले भी सुलझाने पड़े और इसमें उनकी पुलिस की पृष्ठभूमि काम आई. जब भी कोई ऊंची आवाज़ में बात करता है तो वो उसे एक पुलिस अफ़सर बनकर संभाल लेती हैं.

किरण कहती हैं कि उन्होंने क़ानून की पढ़ाई तो की है लेकिन ये पहला मौक़ा है जब वो इसे पूरी तरह से देख समझ रही हैं.

वो कहती हैं कि देश के हर प्रांत से लोग अलग-अलग तरह की समस्याएँ लेकर आ रहे हैं. जैसे गुजरात से मुसलमान महिलाएं ज़्यादा आईं, महाराष्ट्र से ज़मीन-जायदाद के मुद्दे ज़्यादा आए और उत्तरी भारत से घरेलू हिंसा के किस्से ज़्यादा देखने को मिले.

किरण बेदी का ये कार्यक्रम 'रिएलिटी शो' की भीड़ में एक और कार्यक्रम होगा. आजकल 'सच का सामना', 'राखी का स्वयंवर', 'इस जंगल से मुझे बचाओ' जैसे 'रिएलिटी शो' भी लोकप्रिय हैं.

संबंधित समाचार