आफ़ताब बने प्रोड्यूसर

  • 11 नवंबर 2009
आमना शरीफ़-आफ़ताब शिवदसानी
Image caption ऐक्टर आफ़ताब शिवदसानी अब प्रोड्यूसर बन गए हैं.

आफ़ताब शिवदसानी ने फ़िल्मों में शुरुआत की थी बाल कलाकार के रूप में, फिर वो बने हीरो और फ़िल्म आओ विश करें से वो प्रोडयूसर बन गए हैं.

आओ विश करें तेरह नवम्बर को रीलीज़ हो रही है. इसका निर्देशन ग्लैन बरैटो ने किया है. आफ़ताब ने फ़िल्म को न सिर्फ़ प्रोड्यूस किया है बल्कि वो फ़िल्म के हीरो भी हैं. उनके साथ फ़िल्म में आमना शरीफ़ और जॉनी लीवर ने मुख्य भूमिकाएं निभाई हैं.

बीबीसी ने आफ़ताब, आमना और निर्देशक ग्लैन बरैटो से बातचीत की.

आफ़ताब कहते हैं, “आओ विश करें की कहानी ऐसी है जिसे सभी उम्र के लोग पसंद करेंगे. मुझे उम्मीद थी कि फ़िल्म सफल होगी इसलिए मैंने इसे बनाने का फ़ैसला किया.”

फ़िल्म प्रोड्यूस करने और इसमें ऐक्टिंग करने के साथ ही आफ़ताब इसके सह-लेखक भी हैं. आफ़ताब कहते हैं, “इस फ़िल्म का आइडिया मुझे करीब पांच साल पहले आया था. मैं और मेरे लेखक रविन्द्र बंगा ने इसका ड्राफ्ट लिखा. फिर 2007 में मैंने फ़िल्म लेट्स इन्जॉय का गाना ‘सबसे पीछे हम खड़े’ सुना जिसने मुझे बहुत प्रभावित किया. तब हमने अपनी स्क्रिप्ट निकाली और फिर से लिखनी शुरु की. और इस तरह हमने आओ विश करें की कहानी लिखी.”

Image caption आलू चाट के बाद आफ़ताब-आमना एक बार फिर आओ विश करें में एक साथ.

फ़िल्म आलू चाट के बाद एक बार फ़िर आफ़ताब शिवदसानी और आमना शरीफ़ की जोड़ी आओ विश करे में दिखेगी.

फ़िल्म की कहानी के बारे में आमना ने बताया कि ये एक परियों की कहानी है. ये एक बारह साल के लड़के मिकी की कहानी है और आमना के किरदार मिकिता से प्यार करता है. अपनी परिस्थितियों की वजह से वो बड़ा बनना चाहता है. एक दिन वो बड़ा हो भी जाता है और फिर उसकी ज़िंदगी में जो कुछ होता है फ़िल्म उस बारे में है.

आमना बचपन से वो परी कथा का हिस्सा बनना चाहती थीं. आमना कहती हैं, "मुझे सिंडरैला की तरह की परी कहानियां बहुत अच्छी लगती थीं. मैं भाग्यशाली हुं कि मुझे अपनी दूसरी ही फ़िल्म में ऐसा रोल मिला."

हालांकि फ़िल्म फैयरी टेल है लेकिन इसमें ज़्यादा स्पेशल इफेक्ट्स नहीं है. फ़िल्म के निर्देशक ग्लैन बरैटो कहते हैं, “हमने फ़िल्म बहुत सरल और वास्तविक रखी है क्योंकि हम चाहते हैं कि लोग इस बात का विश्वास करें कि हमारे साथ भी ऐसा हो सकता है.”

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार