मेरे पा को मुझ पर गर्व है: विद्या

निर्देशक बाल्की की फ़िल्म पा को 2009 में ख़ूब सराहा गया. 13 साल के अमिताभ बच्चन की माँ बनीं विद्या बालन के लिए ये एक अलग सा किरदार रहा.

2010 में विद्या हिंदी फ़िल्मों में अपने पांच साल पूरे करेंगी. विद्या से विशेष बातचीत.

आप परिणीता से हिंदी फ़िल्मों में आई थीं 2005 में. 2010 में पाँच साल हो जाएँगे. कैसा रहा अब तक का सफ़र.

यही कहूँगी कि मेरे सपने साकार हुए. मैं अभिनेत्री बनना चाहती थी लेकिन मुझे पता नहीं था कि मैं ऐसा कर पाऊंगी या नहीं. पर सपने पूरे हुए हैं. बहुत कुछ सीखा है, कई उतार-चढ़ाव भी देखे हैं लेकिन कुछ भी बेकार नहीं गया. सफ़र अच्छा रहा है. इसके लिए मैं भगवान का शुक्रिया अदा करना चाहूँगी.

फ़िल्म पा में आप 13 साल के अमिताभ बच्चन की माँ का रोल निभाया. जब आपको ये रोल दिया किया गया तो क्या प्रतिक्रिया थी.

पहले तो मुझे विश्वास नहीं हुआ. मुझे लगा कि निर्देशक बाल्की कहेंगे कि ये एक प्रेम कहानी है जिसमें मेरा और अभिषेक का प्रेम संबंध दिखाया जाएगा और बड़े होकर अभिषेक का रोल अमिताभ जी निभाएँगे लेकिन उन्होंने कुछ दूसरी ही कहानी सुनाई. कहानी तो मुझे अच्छी लगी पर मुझे ये समझ नहीं आ रहा था कि बतौर एक्टर ये रोल मुझे करना चाहिए या नहीं क्योंकि माँ का किरदार निभाने के लिए ममता की भावना मुझमें नहीं थी.

फिर बच्चा भी 13 साल का था और वो भी अमिताभ बच्चन निभा रहे थे. फिर मैने स्क्रिप्ट अच्छे से पढ़ी. निर्देशक बाल्की का यकीन देखकर भी मैं प्रभावित हुई क्योंकि एक मिनट के लिए भी मैने उनमें झिझक नहीं देखी कि वे इतनी अलग फ़िल्म को कैसे बनाएँगे. बाल्की ने कहा कि अगर अमिताभ जी, अभिषेक या मैने किसी एक ने भी फ़िल्म करने से मना कर दिया तो वे फ़िल्म नहीं बनाएँगे. रोल और कहानी दोनों अच्छी थीं. मुझे हाँ करनी ही पड़ी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

एक जगह मैं पढ़ रही थी कि आपने कहा है कि अगर आपका बेटा अभिषेक जैसा हो तो आप बहुत ख़ुश होंगी.

हाँ. देखिए अमिताभ बच्चन जी को दुनिया भर में लोग जानते हैं. अभिषेक में इसे लेकर गर्व का भाव है लेकिन उसमें मासूमियत छिपी हुई है. ये भाव हर बच्चे में अपने माता-पिता को लेकर होता है. पर कई बार ऐसा होता है कि हम एक्टर इन भावनाओं को छिपाते हैं, वो मासूमियत कहीं खो जाती है.

शायद डर होता है कि लोग हमें और हमारी भावनाओं को पढ़ न लें. लेकिन अभिषेक में आज भी वो मासूमियत बरकरार है जबकि वो ख़ुद भी ख़ासे मशहूर हैं...दरअसल मुझसे सवाल पूछा गया था कि अगर बॉलीवुड को अभिनेताओं में से किसी को अपना बेटा बनाना हो तो मैं किसे चुनूँगी...तभी मैने अभिषेक का नाम लिया.

आप अपने पिता के साथ अपना रिश्ता कैसे बयां करेंगी.

कहते हैं कि पिता-बेटी के बीच बहुत गहरा रिश्ता होता है, मेरे घर में भी ऐसा ही था. मम्मी तो फिर भी डाँट देती थी कभी-कभी लेकिन पापा तो डाँट भी नहीं पाते थे. हम दोनों बहनों पर उनको बहुत विश्वास है. आज भी उन्हें लगता है कि अगर मेरे सामने कोई भी चुनौती आती है तो मैं उसका सामना कर पाऊँगी.

उन्हें ये जानकर बहुत खुशी होती है कि हम दोनों बहनें अपने-अपने करियर में अच्छा काम कर रही हैं. मेरे बारे में कुछ भी लेख वगैरह छपता है अख़बारों में तो वे कटिंग अपने पास रखते हैं, लैमिनेट करवा लेते हैं. हमारे यहाँ न जानी कितनी फ़ाइलें भर चुकी हैं अख़बार की कटिंग से. मै उनसे कहती हूँ कि एक दिन उनको ये फ़ाइलें रखने के लिए अलग घर लेना पड़ेगा पर वो मानते नहीं हैं.

माँ का ये रोल निभाने में कुछ आपको अपना बचपन, अपनी माँ की बातें याद आईं ?

फ़िल्म करने के बाद एक चीज़ तो समझ में आई..माँ रोज़ मुझसे पूछती हैं कि खाना ठीक से खाया, ठीक से सोई...पहले लगता था कि क्यों रोज़ एक ही बात पूछती हैं. पर इस फ़िल्म के बाद समझ में आया कि एक माँ को कैसा लगता है. मैने ममता के एहसास को महसूस किया.

पा में नए मेकअप और रूप में अमित जी को देखकर आपकी पहली प्रतिक्रिया क्या था?

नया रूप देखकर उन्हें पहचानना थोड़ा मुश्किल था. लेकिन ये भी था बच्चों वाला रूप देखकर मेरा काम थोड़ा सहज हो गया. एक माँ और बच्चे के बीच बड़ा स्वाभिवक सा रिश्ता होता है. माँ ने कभी मार दिया कभी डाँट दिया. मुझे डर था कि ये सब मैं अमिताभ बच्चन की माँ के तौर पर कैसे करुँगी. लेकिन उन्हें नए रूप में देखकर मेरा डर निकल गया, वो तो एकदम अलग लग रहे थे. उनमें मुझसे छोटा सा बच्चा ऑरो ही नज़र आया, अमिताभ बच्चन नज़र नहीं आए.

किस्मत कनेक्शन के बाद अब ग़ायब हो गई थीं, अब लंबे समय फ़िल्म पा आई है. अगली फ़िल्म कब आ रही है आपकी.

इस बार मैं फ़ैन्स को बिल्कुल भी इंतज़ार नहीं करवाउँगी. जनवरी में मेरी फ़िल्म इश्कियाँ आ रही है. इसमें एकदम अलग किरदार है. उम्मीद है लोगों को पसंद आएगा. आख़िर में मैं सबस अपील करना चाहती हूँ कि कोई भी फ़िल्म पाइरेटिड डीवीडी पर न देखें, ख़ासकर विदेशों में रहने वाले.

संबंधित समाचार