टीवी की सास-बहुएं और बजट

राजश्री वैद्य
Image caption टीवी अभिनेत्री राजश्री वैद्य कहती हैं कि रोज़मर्रा की चीज़ें सस्ती होनी चाहिए

आने वाले आम बजट से सभी को कुछ न कुछ उम्मीदें हैं. इस सिलसिले में बीबीसी ने बात की छोटे परदे की कुछ जानी-मानी सास और बहुओं से और जाना कि वो क्या चाहती हैं इस साल के बजट से.

सीरियल 'सात फेरे' में अपने किरदार सलोनी से लोकप्रिय हुई अभिनेत्री राजश्री वैद्य चाहती हैं कि उनका निवेश बढ़े.

राजश्री कहती हैं, "आजकल हर चीज़ इतनी महंगी हो गई है कि हम ज़्यादा निवेश नहीं कर पाते और इस वजह से हम अपने भविष्य को लेकर और भी चिंतित हो जाते हैं.”

सीरियल 'बेटियां' में सरस्वती का किरदार निभाने वाली क्षिति जोग का मानना है कि गृहिणियों के लिए बजट बहुत महत्वपूर्ण होता है.

वे कहती हैं, "बजट से राशन, गैस और रोज़मर्रा की चीज़ों पर असर पड़ता है जिससे पूरे घर के बजट पर भी प्रभाव पड़ता है. गृहिणियां ही घर की देखभाल करती हैं और उन्हीं को तय करना होता है की घर कैसे चलाया जाए."

क्षिति जोग ये भी कहती हैं, "मेरा मानना है कि लग्ज़री की चीज़ों के दाम भले ही बढ़ा दिए जाएं लेकिन एक आम आदमी को ध्यान में रखकर रोज़मर्रा की चीज़ों के दाम कम होने चाहिए.”

Image caption श्रुति उल्फ़त कहती हैं कि लोगों को भी ध्यान रखना चाहिए की वो बेफ़िज़ूल ख़र्चा न करें.

क्षिति जोग की तरह ही टेलीविज़न और फ़िल्म अभिनेत्री श्रुति उल्फत भी मानती हैं कि रोज़मर्रा की चीजों के दाम बढ़ने से मध्यम वर्ग के लोगों को झटका लगता है.

लेकिन श्रुति का मानना है कि लोगों को भी ध्यान रखना चाहिए की वो बेफ़िजूल खर्चा या फिर चीज़ें बर्बाद न करें.

वो कहती हैं, "एक आम आदमी को अपनी ख़्वाहिशें थोडा़ दबाना होगा और जिन चीज़ों की ज़्यादा आवश्यकता नहीं है, उनका इस्तेमाल न करें या फिर कम करें."

कई सीरियल और फ़िल्मों का हिस्सा रह चुकी अभिनेत्री सविता प्रभुणे का भी कहना है, "आए दिन कभी पेट्रोल, दूध या दाल-सब्ज़ी के दाम बढ़ते रहते हैं जिससे हमें अपनी गृहस्थी चलाना मुश्किल हो जाता है. सरकार को इन चीज़ों के बारे में जल्द ही सोचना चाहिए लेकिन हमेशा सरकार को ही दोष नहीं देना चाहिए. लोगों को भी प्राकृतिक संसाधनों का ध्यान से इस्तेमाल करना चाहिए."

संबंधित समाचार