फेसबुक पर तनातनी जारी

फेसबुक (फाइल फोटो)
Image caption विंकलेवास बंधुओं का दावा है कि फेसबुक उनकी वेबसाइट कनेक्टू की ही एक नकल है

फ़ेसबुक पर दावा ठोंकने वाले अमरीकियों कैमरून और टेलर विंकलेवॉस का कहना है कि उनकी कानूनी लड़ाई अभी ख़त्म नहीं हुई है.

विंकलेवास बंधुओं ने दावा किया था कि फ़ेसबुक का विचार सबसे पहले इन्होंने ही दिया था.

दावे के बाद विंकलेवास बंधुओं और मार्क ज़करबर्ग के बीच लंबे समय तक क़ानूनी लड़ाई चली.

इसके बाद फ़ेसबुक की ओर से इन दोनों को करोड़ों डॉलर मिले थे.

विंकलेवॉस बंधुओं ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ते समय कनेक्टू नामक साइट शुरू की थी.

इसी यूनिवर्सिटी में इनके साथ फ़ेसबुक के संस्थापक मार्क ज़करबर्ग भी थे.

कुछ हर्जाने के भुगतान के बाद 2008 में इन दोनों के बीच लड़ाई ख़त्म हुई. हालांकि इस धन राशि के बारे में पता नहीं चल पाया.

फ़ेसबुक ने कहा कि अब मामले को समाप्त मानना चाहिए.

कैमरून विंकलेवॉस ने 2008 में फेसबुक के साथ हुए समझौते पर बीबीसी से कहा, "यह कहना ठीक है कि मामला अभी ख़त्म नहीं हुआ है."

सोशल नेटवर्क को धक्का

टेलर विंकलेवॉस ने कहा, "यह हमारा कर्तव्य है कि हम सिद्धांतों के लिए खड़े हों. हम प्रतीक्षा कर रहे हैं."

विंकलेवास बंधुओं ने 2003 में कनेक्टू पर काम शुरू किया था. उन्होंने सोचा कि कंप्यूटर साइंस के छात्र मार्क ज़करबर्ग उनके साथ काम कर रहे हैं. लेकिन मार्क ने ऐसी ही एक और वेबसाइट द फ़ेसबुक डॉट कॉम शुरू कर दी.

हार्वर्ड विश्वविद्यालय के परिसर में यह वेबसाइट काफी लोकप्रिय हुई. बाद में फ़ेसबुक दुनिया भर में काफ़ी चर्चित हो गई.

विवाद के बारे में फ़ेसबुक ने बीबीसी को बताया कि मामले को निपटाने की प्रक्रिया कोर्ट की तरफ से लागू की गई है. उस फ़ैसले में देरी किए जाने की कोशिशों को दो बार टाला जा चुका है. हम मानते हैं कि मामले को निपटाया जा चुका है.

संबंधित समाचार