युवाओं का नुमाइंदा हूँ: शाहिद कपूर

शाहिद कपूर
Image caption शाहिद कपूर कहते हैं कि युवा-वर्ग में उनकी लोकप्रियता ज़्यादा है

शाहिद कपूर कहते हैं कि वो अपने आप को बहुत भाग्यशाली मानते हैं कि उन्हें अब तक के अपने करियर में तरह-तरह के किरदार निभाने को मिले हैं जो कि बहुत सराहे भी गए हैं.

बीबीसी से एक ख़ास बातचीत में शाहिद ने कहा कि युवाओं के बीच उनकी लोकप्रियता इसलिए ज़्यादा है क्योंकि वो भी एक युवा हैं और एक तरह से युवा वर्ग के नुमाइंदे हैं.

शाहिद कहते हैं, "किसी भी अभिनेता के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि वो युवा वर्ग को भाए क्योंकि युवा ही सबसे ज़्यादा फ़िल्में देखते हैं."

उनका कहना था,"युवा वर्ग से मैं सोशल नेटवर्किंग साइट्स के ज़रिए बात करता रहता हूं. मेरे विचार से युवा बहुत ही ईमानदारी से मेरे काम की समीक्षा करते हैं."

शाहिद अपनी नई फ़िल्म बदमाश कंपनी से भी युवा दर्शकों को लुभाना चाहते हैं.

वो कहते हैं,"मैंने इस फ़िल्म में करण नाम के एक लड़के का रोल किया है जो कि एक मध्यमवर्गीय परिवार से है और जो बहुत सोचता है. उसे लगता है कि उसका मेहनत का फ़ायदा सिर्फ़ उसे ही होना चाहिए."

शाहिद कहते हैं,"फ़िल्म में उसके चार-पांच साल की जीवन यात्रा दिखाई गई है. उसका किरदार बहुत दिलचस्प रूप से उभरता है."

करण का किरदार एक ऐसे लड़के का है जो ज़िंदगी में कुछ कर गुज़रने के सपने देखता है.

वो बताते हैं,"मैं भी असल ज़िंदगी में बहुत सपने देखता हूं. मुझे ऐसा लगता है जैसे मैं अपने सपने को जी रहा हूं. बहुत साल पहले मैंने सोचा था कि मैं एक अभिनेता बनूंगा और आज ये सच हो गया है."

शाहिद की नई फ़िल्म का नाम तो बदमाश कंपनी है लेकिन क्या शाहिद भी बचपन में बदमाश थे?

शाहिद जवाब में कहते हैं,"हां मैं बहुत बदमाशियां करता था. स्कूल और घर दोनों में ही. मुझे क्रिकेट खेलने का बहुत शौक़ था और मैं खिड़कियाँ तोड़ने के लिए जाना जाता था."

फ़िल्म बदमाश कंपनी का निर्देशन किया है परमीत सेठी ने और इसमें शाहिद के साथ नज़र आ रहे हैं अनुष्का शर्मा, मियांग चैंग और वीर दास.

संबंधित समाचार