'दर्शकों और ऐक्टर में फ़ासला ज़रूरी':सैफ़

  • 27 मई 2010
सैफ़ अली ख़ान
Image caption सैफ़ अली ख़ान कहते हैं कि उनका ट्विटर से जुड़ने का कोई इरादा नहीं है क्योंकि दर्शकों और अभिनेता में थोड़ा फ़ासला होना चाहिए.

सैफ़ अली ख़ान कहते हैं कि उन्हें ट्विटर से जुड़ने में कोई दिलचस्पी नहीं है. हांलाकि वो ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्किंग के साधनों को बहुत बढ़िया और लोकप्रिय प्लैटफ़ॉर्म कहते हैं और इसका इस्तेमाल अपनी फ़िल्मों के प्रचार के लिए भी करना चाहते हैं लेकिन निजी ज़िंदगी में ट्विटर के प्रयोग से वो सहमत नहीं हैं.

इसकी वजह सैफ़ अली ख़ान ने कुछ यूं बताई, "निजी तौर पर मेरा ट्विटर से जुड़ने का कोई इरादा नहीं है क्योंकि मुझे इसकी ज़रुरत नहीं महसूस होती. मैं मानता हूं कि दर्शकों और ऐक्टर के बीच कुछ फ़ासला होना चाहिए.”

शिल्पा शेट्टी, अमिताभ बच्चन, शाहरुख़ ख़ान, प्रियंका चोपड़ा जैसे कई बॉलीवुड सितारे अपने फ़ैन्स के साथ ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स के ज़रिए जुड़े हैं.

मशहूर होने के फ़ायदे

तो क्या उन्हें ट्विटर पर होने से कोई नुक़सान होता दिखता है? सैफ़ कहते हैं, “मुझे नहीं लगता मशहूर होने के कोई बहुत ज़्यादा नुक़सान हैं. मैं मानता हूं कि प्रसिद्ध होने के फ़ायदे ही हैं और इसके लिए मैं अपने काम का शुक्रगुज़ार हूं.”

सैफ़ ये भी कहते हैं, “मुझे लगता है कि ऐक्टिंग करने की वजह से हमें तरह-तरह के रोल करने का मौका मिलता है जिससे लोग जुड़ाव महसूस करते हैं. वो हमें इज़्ज़त देते हैं. इसमें हम जिस तरह की फ़िल्में करते हैं और उन निर्देशकों का हाथ है जो हमें ऐसे रोल देते हैं.”

सैफ़ प्लास्टिक सर्जरी की संभावना से भी इंकार नहीं करते. वो कहते हैं, “इन बातों के बारे में हंसना बहुत आसान है लेकिन एक अभिनेता का काम ही ऐसा है कि हमें इस बारे में वास्तविक होना चाहिए. मैं निजी तौर पर प्लास्टिक सर्जरी का फ़ैन नहीं हूं लेकिन हेयर ट्रांसप्लांट या फ़ेस लिफ़्ट या कॉस्मेटिक सर्जरी में कोई बुराई नहीं है."

सैफ़ ने कहा कि फ़िलहाल उन्हें प्लास्टिक सर्जरी की ज़रुरत नहीं है लेकिन भविष्य के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार