शरमन जोशी का नया अवतार

sharman joshi
Image caption फ़िल्म अल्लाह के बन्दे में शर्मन जोशी और फ़ारूक़ कबीर

निर्देशक फ़ारूक़ कबीर का दावा है कि उनकी फ़िल्म 'अल्लाह के बंदे' में अभिनेता शरमन जोशी का उनकी अब तक की छवि से हटकर रूप देखने को मिलेगा. ये फ़िल्म कहानी है झोपड़पट्टी में रहने वाले दो लड़को की जो ग़लत रास्ते पर निकल पड़ते हैं और अंततः जेल पहुँच जाते हैं.

बड़े होकर इनमें से एक लड़के का किरदार निभा रहे हैं शरमनजोशी जबकि दूसरे लड़के के किरदार में हैं खुद फ़ारूक़ कबीर.

अभिनेता के रूप में ये फ़ारूक़ की पहली फ़िल्म है.

फ़ारूक़ ने बताया कि इस फ़िल्म को बनाने के लिए उन्होंने काफ़ी रिसर्च की, खुद झोपड़पट्टी में जाकर लोगों से मिले, उनसे बातें कीं.

शरमनजोशी की पिछली अधिकतर फ़िल्में कॉमेडी रही हैं और फ़ारूक़ मानते हैं कि शरमन जैसे समर्पित अभिनेता को हर तरह एक किरदार करने का मौक़ा मिलना चाहिए.

खुद शरमनजोशी का मानना है कि इस फ़िल्म में उनका किरदार कुछ कुछ उनकी पहली फ़िल्म गॉडमदर से मिलता है.

फ़िल्म में शरमनके साथ मुख्य भूमिका में हैं अभिनेत्री अंजना सुखानी. साथ ही शामिल हैं अभिनेता नसीरुद्दीन शाह भी.

अंजना ने ख़ास कर तारीफ़ की इस फ़िल्म के निर्देशक और अभिनेता फ़ारूक़ कबीर की. अंजना का मानना है कि उन्होंने इतना बढ़िया काम किया है कि यह फ़िल्म देखने वाला कोई नहीं कह सकता है कि इस फ़िल्म में फ़ारूक़ पहली बार ऐक्टिंग कर रहे हैं.

हालाँकि फ़िल्म में झोपड़पट्टी के दो लड़कों की कहानी है पर शरमनजोशी ने बताया कि फ़िल्म में स्लमडॉग मिलियनेयर जैसा कुछ नहीं है. ये कहानी बिलकुल अलग है.

संबंधित समाचार