'रोमांस के राजा' को सम्मान

  • 26 अक्तूबर 2010
दीपिका पादुकोण, यश चोपड़ा
Image caption यश चोपड़ा को 'स्विस एंबेसडर अवॉर्ड 2010' से सम्मानित किया गया

'चांदनी', 'डर', 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएँगे' और 'मोहब्बतें' समेत कई फ़िल्मों में स्विटज़रलैंड की हसीन वादियों को हिंदी सिनेमा के दर्शकों से रूबरू कराने वाले यश चोपड़ा को 'स्विस एंबेसडर अवॉर्ड 2010' से सम्मानित किया गया.

'किंग ऑफ़ रोमांस' कहे जाने वाले यश चोपड़ा को स्विटज़रलैंड दूतावास ने फ़िल्मों के ज़रिए 'ब्रांड स्विटज़रलैंड' का प्रचार करने के लिए ये पुरस्कार दिया. ये पुरस्कार उन लोगों को दिया जाता है जिन्होंने भारत और स्विटज़रलैंड के रिश्तों को बढ़ाने में किसी भी तरह का योगदान दिया हो.

पुरस्कार ग्रहण करने के बाद यश चोपड़ा ने कहा, "मेरे पास अपनी खुशी बयान करने के लिए शब्द नहीं है. मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे ये पुरस्कार मिलेगा."

स्विटज़रलैंड के बारे में यश चोपड़ा का कहना है, "रोमांस को फ़िल्माते वक़्त जो मानसिक शांति चाहिए होती है, वो हमें स्विटज़रलैंड में मिलती है. इसलिए मैंने अपनी ज़्यादातर रोमांटिक फ़िल्मों की शूटिंग स्विटज़रलैंड में की है."

इस मौक़े पर यश चोपड़ा की फ़िल्मों के गानों पर कलाकारों ने नृत्य भी पेश किया. अभिनेत्री दीपिका पादुकोण भी इस समारोह में मौजूद रहीं. उन्होंने कहा, "रोमांस क्या होता है, इसका आइडिया ही मुझे यश चोपड़ा की फ़िल्मों से लगा. मैंने वीर-ज़ारा तक उनकी तक़रीबन सभी फ़िल्में देखी हैं."

यश चोपड़ा के अलावा भी शूटिंग के लिए कई फ़िल्मकारों की पसंदीदा जगह स्विटज़रलैंड रही है. 'असंभव' पहली ऐसी हिंदी फ़िल्म थी जिसकी पूरी की पूरी शूटिंग ही स्विटज़रलैंड में हुई.

संबंधित समाचार