क्रिकेट विश्व कप में गूंजेगा 'दे घुमा के'

शंकर-एहसान-लॉय
Image caption विश्व कप 2011 के आधिकारिक गाने को शंकर-एहसान-लॉय की तिकड़ी ने संगीतबद्ध किया है.

फ़रवरी-मार्च 2011 में होने वाले विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए आधिकारिक गाने के बोल होंगे 'दे घुमा के', जिसे शंकर, एहसान और लॉय की तिकड़ी ने संगीतबद्ध किया है.

बीबीसी से बात करते हुए शंकर महादेवन ने कहा, "हम बहुत ख़ुशकिस्मत हैं कि हमें इस गाने को कंपोज़ करने का मौक़ा दिया गया. ये गाना बहुत ऊर्जावान है. काफ़ी धमाकेदार बन पड़ा है ये गीत."

शंकर ने आगे बताया कि इस गाने में किसी तरह का संदेश देने की कोई कोशिश नहीं की गई है. बस लोग इसे सुनकर झूमेंगे और गाएंगे.

गाने का शीर्षक 'दे घुमा के' क्यों रखा गया, ये पूछने पर शंकर ने कहा कि 'दे घुमा के' वो तीन लफ़्ज हैं जिनका इस्तेमाल भारत में गली, मोहल्ले की क्रिकेट खेलते वक़्त भी लोग इस्तेमाल करते हैं. ये काफ़ी बोलचाल की भाषा है, इसलिए गाने के बोल ऐसे रखे गए.

क्या शंकर ख़ुद क्रिकेट के फ़ैन हैं. ये पूछने पर शंकर ने बताया, "मैं क्रिकेट पसंद करता हूं, लेकिन मेरा बेटा तो क्रिकेट का जैसे दीवाना है. वो मैचों का सीधा प्रसारण देखता है, फिर जितनी बार वो टीवी पर आते हैं, हर बार देखता है." शंकर महादेवन के पसंदीदा क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, अनिल कुंबले और राहुल द्रविड़ हैं.

'दे घुमा के' गीत हिंदी के अलावा सिंहली और बांग्ला भाषा में भी होगा.

संबंधित समाचार