पैसों के लिए फ़िल्में नहीं बना रहा: अक्षय

  • 15 जनवरी 2011
अक्षय कुमार
Image caption अभिनेता और निर्माता अक्षय कुमार कहते हैं कि वो पैसों के लिए फ़िल्में नहीं बनाते.

चाहे वो शाहरुख़ ख़ान हों, आमिर ख़ान, या अमिताभ बच्चन--- बॉलीवुड में अभिनेताओं का निर्माता बनना कोई नया चलन नहीं है. अक्षय कुमार का नाम भी पिछले कुछ समय से इस सूची में जुड़ गया है.

लेकिन अक्षय कुमार कहते हैं कि वो पैसे के लिए फ़िल्में नहीं बनाते. अक्षय कहते हैं, “मैं फ़िल्में पैसे के लिए नहीं बना रहा. मैं वो फ़िल्में बना रहा हूं जो मैं करना चाहता हूं. मैं ज़िंदगी के उस मुक़ाम पर हूं कि मुझे कमाने की चिंता नहीं है. मैं चिंता करता हूं कि मैं नया क्या कर सकता हूं.”

लेकिन ऐसा नहीं है कि अक्षय पूरी तरह से फ़िल्म बनाने के व्यापारिक पहलू को उपेक्षा करते हैं.

वो कहते हैं, “जब मैं अपनी फ़िल्म में काम करता हूं तो मैं अपनी फ़ीस नहीं लेता इसलिए फ़िल्म की लागत बहुत कम हो जाती है. अगर फ़िल्म चलती है तो मेरी कमाई होती है और अगर नहीं चलती, तो नहीं कमाता. आप कह सकते हैं कि इसलिए फ़िल्म के फ़्लॉप होने की वजह ही नहीं रहती क्योंकि फ़िल्म का स्टार अपनी फ़ीस ही नहीं लेता.मैंने अब तक आठ फ़िल्म बनाई हैं और मेरी एक भी फ़िल्म को नुक्सान नहीं हुआ है.”

अक्षय कुमार द्वारा बनाई गई फ़िल्मों में ‘खट्टा-मीठा’, ‘तीसमार ख़ां’ और ‘पटियाला हाउज़’ शामिल हैं. ‘पटियाला हाउज़’ अभी रीलीज़ नहीं हुई है.

अक्षय ये भी मानते हैं कि उनके जैसे बड़े सितारे का तथाकथित ‘सीरियस सिनेमा’ करना इतना आसान काम नहीं है.

वो कहते हैं, “जब मैं या शाहरुख़ या सलमान फ़िल्म करते हैं तो ये ज़रूरी है कि हमारी फ़िल्म बॉक्स ऑफ़िस पर इतनी कमाई कर सके जिससे निर्माता और वितरक को नुक्सान न हो. इसलिए हम ‘सीरियस’ सिनेमा नहीं कर सकते क्योंकि उस सिनेमा के सीमित और ख़ास तरह के दर्शक हैं. हां, समय के साथ इस तरह की फ़िल्में देखने वालों की संख्या बढ़ेगी. ‘पटियाला हाउज़’ उस तरह की फ़िल्मों की तरफ़ मेरा पहला कदम है. मुझे नहीं पता फ़िल्म चलेगी या नहीं लेकिन मैं इसे करने पर गर्व महसूस करता हूं.”

संबंधित समाचार