आशा भोंसले को डॉक्टरेट

आशा भोंसले
Image caption जानी-मानी गायिका आशा भोंसले को डॉक्टरेट की उपाधि से नवाज़ा गया है.

जानी-मानी गायिका आशा भोंसले को साहित्य में डॉक्टरेट, डी लिट की डिग्री से नवाज़ा गया है. उन्हें ये सम्मान नासिक-स्थित यशवंतराव चव्हाण महाराष्ट्र ओपन यूनिवर्सिटी ने एक मार्च को दिया.

आशा जी ने इस सम्मान के बारे में जानकारी सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर के ज़रिए दी.

हाल ही में आशा जी ने फ़िल्म ‘पानी रे पानी’ के लिए गाना रिकॉर्ड किया. फ़िल्म भारत में पानी की समस्या के बारे में है और इसकी शूटिंग शुरु होना अभी बाकी है. आशा जी को फ़िल्म का विषय बहुत पसंद आया और इसलिए उन्होंने गाने के लिए हां की.

वैसे किसी भी आम आदमी की ही तरह उन्हें भी अपनी रोज़ाना ज़िंदगी में पानी की समस्या से दो-चार होना पड़ता है. उनके घर सिर्फ़ एक घंटा ही पानी आता है जिसमें पीने और अन्य कामों के लिए पानी भरना पड़ता है.

आशा जी कहती हैं, “जब मुझे ऐसी तक़लीफ़ है तो और लोगों को भी ज़रूर होगी. लेकिन इस तक़लीफ़ का किस तरह हल किया जाए ये तो सरकार ही जानती है और उनको ही करना पड़ेगा.”

लेकिन वो ये भी मानती हैं कि इस समस्या के समाधान के लिए सबको एक साथ काम करना होगा. आशा जी कहती हैं, “हर आदमी सोचता है मेरे घर में तो पानी है, दूसरे का क्या होता है, जाने दो. जब इंसान ये सोचता है तो अच्छा नहीं होता. जब सब मिलकर खड़े होते हैं तभी कुछ काम होता है.”

पानी के अलावा आशा भोंसले दिन-ब-दिन बढ़ती मंहगाई के बारे में भी चिंतित हैं. वो कहती हैं कि इस मंहगाई में प्याज़ के दाम पर मुर्गी खरीदी जा सकती है.

उन्होंने कहा, “मैं घर भी देखती हूं और बाज़ार भी जाती हूं, तो मुझे पता है कि हालत बहुत ख़राब है. अभी-अभी मंहगाई कुछ कम हुई है. इससे पहले मुझे भी सौ रुपये किलो का प्याज़ लाना मुश्किल था. इतने दाम में तो एक मुर्गी आ जाती है. मैंने किसी से कहा कि मुर्गी ले आओ तो वो बोला कि मुर्गी बनाने के लिए भी तो प्याज़ चाहिए न....”

मंहगाई और पानी की समस्याओं से जूझने के बाद खाली समय में आशा भोंसले क्रिकेट देखना पसंद करती हैं.

संबंधित समाचार