टीवी सीरियलों ने मुझे थका डाला- एकता कपूर

  • 25 अप्रैल 2011
एकता कपूर इमेज कॉपीरइट official website
Image caption एकता कपूर 'रागिनी एमएमएस' और 'डर्टी पिक्चर' जैसी बोल्ड फ़िल्में बना रही हैं.

'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' से भारतीय टीवी पर सास-बहू और पारिवारिक कार्यक्रमों का जो दौर शुरु हुआ, वो आज भी जारी है.

इस कार्यक्रम को ज़बरदस्त कामयाबी मिली और उसके बाद टीवी पर ऐसे सीरियलों की बाढ़ सी आ गई.

ये चलन शुरू करने का श्रेय अगर किसी को जाता है तो वो हैं एकता कपूर. लेकिन अब वो ख़ुद सीरियल बनाते-बनाते थक चुकी हैं.

बतौर निर्माता अपनी आने वाली फ़िल्म 'रागिनी एमएमएस' के बारे में बात करते हुए एकता कपूर कहती हैं, "एक निर्माता होने की हैसियत से मैं अपने आपको किसी सीमा में बांधना चाहती. और वैसे भी 17 सालों से टीवी सीरियल बनाते-बनाते मैं थक गई थी. इसलिए मैंने फ़िल्म भी बनाना शुरू कर दिया है."

अपने बैनर बालाजी मोशन पिक्चर्स के तले एकता कपूर वंस अपॉन अ टाइम इन मुंबई और भूल भुलैया जैसी कामयाब फ़िल्मों का निर्माण कर चुकी हैं.

वैसे हाल ही में एकता का रुझान बोल्ड विषयों पर फ़िल्म बनाने की ओर झुका है. उनकी फ़िल्म 'लव सेक्स और धोखा' को ख़ासा बोल्ड माना गया था.

अब वो 'रागिनी एमएमएस' और 'डर्टी पिक्चर' जैसी फ़िल्मों का निर्माण भी कर रही हैं. लेकिन एकता इन फिल्मों को कतई बोल्ड नहीं मानती.

एकता कहती हैं, "लव सेक्स और धोखा एक ऐसी फिल्म थी जो आज के समाज का प्रतिबिंब थी. वहीं रागिनी एमएमएस एक पैरानॉर्मल फ़िल्म है. और अगर डर्टी पिक्चर की बात की जाए तो ये एक ऐसी फिल्म है जिसमें हम ये दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि कैसे 80 के दशक में एक लड़की ने समाज से डरे बगैर अपनी एक अलग पहचान बनाई." 'डर्टी पिक्चर' में विद्या बालन और एकता के भाई तुषार कपूर की मुख्य भूमिका है. ये फ़िल्म दक्षिण भारतीय फ़िल्मों की बोल्ड अभिनेत्री सिल्क स्मिता पर आधारित है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार