बिन मनोरंजन कैसी फ़िल्म: जूही

  • 28 अप्रैल 2011
जूही चावला इमेज कॉपीरइट official website
Image caption फ़िल्म 'आई एम' में जूही चावला.

अभिनेत्री जूही चावला आजकल फ़िल्मों में यदा कदा ही दिखाई देती हैं. अब वो लंबे समय बाद दिखाई दे रही हैं ओनिर की फ़िल्म 'आई एम' में.

जूही के मुताबिक़ फ़िल्म का विषय गंभीर तो है, लेकिन इसमें मनोरंजन के अवयव भी हैं.

फ़िल्म के बारे में बात करते हुए जूही चावला कहती हैं, "मैं तो पूरी तरह से कमर्शियल सिनेमा में यक़ीन रखती हूं. मेरे हिसाब से फ़िल्म अगर सिर्फ़ संदेश देने के लिए बनाई जाए और उसमें मनोरंजन ना हो तो वो बेकार है. ज़रूरी है कि दर्शक फ़िल्म देखने जाए तो वो फ़िल्म से जुड़ा रहे."

जूही चावला ने फ़िल्म में पैसा भी लगाया है. उन्होंने बताया कि उन्हें फ़िल्म की कहानी में पूरा भरोसा था इसलिए उन्हें पैसा लगाते हुए हिचकिचाहट नहीं हुई.

फ़िल्म के निर्देशक ओनिर ने बताया कि ये फ़िल्म असल ज़िंदगी की घटनाओं पर आधारित है.

वो कहते हैं, "ये एक मनोरंजक फ़िल्म है और समझदार लोगों के लिए है. बस हमने प्यार से फ़िल्म बनाई है. 'आई एम' के किरदार बिना डरे अपनी ज़िंदगी आज़ादी से और स्वाभिमान से जीना चाहते हैं. इस तरह की फ़िल्मों के दर्शक आजकल बढ़ रहे हैं."

फ़िल्म में राहुल बोस, संजय सूरी और नंदिता दास भी अहम भूमिकाओं में हैं.

दिलचस्प बात तो ये है कि इसमें गुलाल, देव डी और ब्लैक फ़्राइडे जैसी फ़िल्में बना चुके अनुराग कश्यप भी एक ख़ास रोल में हैं. वो अपने बच्चे को प्रताड़ित करने वाले पिता की भूमिका में हैं.

बीबीसी से बात करते हुए अनुराग ने कहा, "मेरे लिए ये किरदार निभाना बेहद मुश्किल रहा, क्योंकि मैं भी बचपन में इसी दौर से गुज़र चुका हूं."

'आई एम' 29 अप्रैल को दर्शकों के सामने आ रही है.

संबंधित समाचार