‘मुझे अच्छे नहीं, बुरे लोग पसंद हैं’

राम गोपाल वर्मा की पिछली कई फ़िल्में फ़्लॉप रही हैं और वो इनके फ़्लॉप रहने की वजह भी जानते है. लेकिन वजह जानने के बावजूद भी वो इस वजह को बदलना नहीं चाहते.

राम गोपाल वर्मा कहते हैं, “मैं पारिवारिक ड्रामा और शुगरी स्वीट रोमांस फ़िल्में नहीं बनाता और ये भी एक वजह है कि मेरी फ़िल्में असफल होती हैं.”

राम गोपाल वर्मा कहते हैं कि उन्हे साधारण चीज़े पसंद नहीं है और इसलिए वो पारिवारिक फ़िल्में नहीं बना सकते. रामू को उनके घर में होने वाली घरेलू गतिविधियां भी उच्छी नहीं लगती. वह तो यहाँ तक कहते हैं कि उन्हे परिवार ही पसंद नहीं.

राम गोपाल वर्मा कहते हैं, “जब मैं घर में रहता हूँ तो बच्चे की पढ़ाई, रसोई का सामान, जन्मदिन, शादी जैसी बातें, वो सब मुझे पसंद नहीं है.”

रामगोपाल वर्मा स्पष्ट कहते है, “मुझे अच्छे लोग पसंद नहीं हैं, मुझे बुरे लोग पसंद हैं.”

वैसे रामू ये भी कहते है कि उनके लिए फ़िल्म का हिट होना या फ़्लॉप होना कोई माइने नहीं रखता. फिल्म बनाते वक्त उनकी कोशिश रहती है कि वो जल्द से जल्द फिल्म पूरी कर पाएं.

रामू कहते है, “मेरे लिए फ़िल्म बनाना ज़रुरी है लेकिन उसके बाद मैं ये नहीं सोचता कि लोग क्या कहते हैं. उसके बाद मैं अगली फ़िल्म पर काम करना शुरु कर देता हूँ.”

संबंधित समाचार