हिटलर बनने से पहले डर लगा: रघुवीर यादव

इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption फ़िल्म में नेहा धूपिया भी हैं जिन्होंने हिटलर की प्रेमिका इवा ब्राउन की भूमिका निभाई है

रघुवीर यादव इस बात को लेकर हैरान थे कि आख़िर कोई ये कैसे सोच सकता है कि वो हिटलर बन सकते हैं.

रघुवीर ने शुक्रवार को रिलीज़ हुई फ़िल्म 'गांधी टू हिटलर' में जर्मन तानाशाह हिटलर का किरदार निभाया है.

बीबीसी से ख़ास मुलाक़ात में रघुवीर ने बताया, "जब इस फ़िल्म में काम करने का प्रस्ताव मेरे पास आया तो पहले तो मुझे लगा कि मेरे साथ मज़ाक किया जा रहा है. भला मैं कैसे हिटलर लग सकता हूं. लेकिन बाद में मुझे मानना पड़ा कि नहीं वाकई मुझे हिटलर बनना है."

रघुवीर ने बताया कि वो इस रोल के लिए अच्छी ख़ासी तैयारी करना चाहते थे. लेकिन निर्माता फ़िल्म को बहुत जल्दी शूट करना चाहते थे. आख़िर आनन-फ़ानन में उन्होंने हिटलर के ब्लैक एंड व्हाइट फ़ुटेज देखे और उन्हीं के आधार पर इस किरदार के लिए तैयारी की.

रघुवीर ने कहा कि अपनी तरफ़ से उन्होंने कम समय होने के बावजूद पूरी तैयारी की है. रघुवीर के मुताबिक़ उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर में ज़्यादा नकारात्मक किरदार नहीं किए हैं इसलिए हिटलर का किरदार निभाने से पहले उन्हें काफ़ी झिझक हुई थी.

फ़िल्म 'गांधी टू हिटलर' द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान की कहानी है. जब महात्मा गांधी ने हिटलर को हिंसा रोकने की अपील करते हुए ख़त लिखे थे.

रघुवीर ने बताया कि ये फ़िल्म दो विचारधाराओं के संघर्ष की कहानी है. एक तरफ़ महात्मा गांधी की अहिंसावादी नीतियां और दूसरी तरफ़ हिटलर की हिंसा की मानसिकता.

फ़िल्म में हिटलर के आख़िरी दिनों का वर्णन भी है जब वो अपनी ज़िंदगी से निराश हो गए थे और आख़िर उन्होंने आत्महत्या कर ली थी. फ़िल्म में नेहा धूपिया भी हैं जिन्होंने हिटलर की प्रेमिका इवा ब्राउन की भूमिका निभाई है.

संबंधित समाचार