'वो फ़रिश्ते और जादूगर थे'

किशोर कुमार
Image caption चार अगस्त को किशोर दा के 82वें जन्मदिन पर फ़िल्म और संगीत जगत की हस्तियों ने उन्हें याद किया.

महान गायक दिवंगत किशोर कुमार का चार अगस्त को 82वां जन्मदिन है. इस मौक़े पर उन्हें उनके परिवार के अलावा फ़िल्म और संगीत जगत की बड़ी बड़ी हस्तियों ने याद किया.

उनकी पत्नी लीना चंद्रावरकर ने बीबीसी से बात करते हुए बताया कि जब उन्होंने किशोर कुमार से शादी के बाद शुरुआत में उनके परिवार वालों ने ये रिश्ता मंजूर नहीं किया था.

लीना ने कहा, "वो बहुत ज़िंदादिल इंसान थे. मेरी पिछली ज़िंदगी में मुझे जो भी दुख मिला वो उन्होंने फ़रिश्ते और जादूगर की तरह सब भुला दिया. वो बेहतरीन पति और शानदार पिता थे.बच्चों के साथ वो बच्चे बन जाते थे."

उनके साथ कई बेहतरीन गाने गाने वाली भारतरत्न गायिका लता मंगेशकर किशोर दा को याद करते हुए कहती हैं, "व्यक्तिगत तौर पर मुझे वो सबसे ज़्यादा पसंद थे. उनको पूरी समझ थी कि कौन सा गाना कैसे गाना है. वो तो किसी भी तरह का गाना गा सकते थे. गंभीर गानों को भी बिना नाटकीय हुए शानदार तरीके से गाते थे किशोर दा."

लता दीदी की गायिका बहन आशा भोंसले भी किशोर दा को भुला नहीं पाई हैं.

आशा के मुताबिक़ उन्हें भगवान का आशीर्वाद मिला था. वो दिल और दिमाग़ से गाते थे. उन्होंने संगीत की कोई विधिवत शिक्षा नहीं ली थी फिर भी बेहद सुरीला गाते थे.

सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने किशोर कुमार को याद करते हुए कहा, "वो तो जैसे मेरा अभिन्न अंग ही बन गए थे. उनके गानों की वजह से मैं पर्दे पर ख़ूबसूरत लगने लगा था. आने वाले समय में लोग किशोर दा की वजह से मुझे याद रखेंगे."

किशोर कुमार के बेटे अमित कुमार ने बताया कि उन्हें पुरानी अंग्रेज़ी क्लासिकल फ़िल्में देखना बहुत पसंद था और छुट्टी के दिन वो उन्हें थिएटर में ले जाकर वो फ़िल्में दिखाया करते थे.

मशहूर शायर और गीतकार जावेद अख़्तर तो जैसे किशोर दा के दीवाने हैं. वो कहते हैं, "मुझे तो उनकी आवाज़ के आगे किसी की आवाज़ जंचती ही नहीं. मैं ख़ुशनसीब हूं कि मेरा लिखा पहला गाना 'देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए' उन्होंने और लता दीदी ने गाया था. वो बेहद ज़िंदादिल इंसान थे."

संबंधित समाचार