नहीं रहा 'टार्ज़न' फ़िल्मों का चिंपाज़ी

  • 29 दिसंबर 2011

एक चिंपाज़ी, जो माना जाता है कि 1930 के दशक में हॉलीवुड में 'टार्ज़न' फ़िल्मों में दिखाई दिया था, उसकी 80 साल की उम्र में मौत हो गई है.

अमरीका के फ़्लोरिडा राज्य के सनकोस्ट प्राइमेट सैंक्च्यूरी ने कहा है कि चिंपाज़ी की मौत गत शनिवार को गुर्दे ख़राब होने के कारण हुई.

सैंक्च्यूरी का दावा है कि चीता नाम के इस चिंपाज़ी ने 1932 से 1934 तक बनी टार्ज़न फ़िल्मों में जॉनी वाइज़म्यूलर और मॉरीन ओ सलीवान के साथ काम किया था.

इस चिंपाज़ी को उंगलियों से चित्रकारी करने और फ़ुटबॉल का शौक था और उसे "क्रिस्टियन संगीत से शांति मिलती थी".

सैंक्च्यूरी की प्रवक्ता डेबी कॉब ने टांपा ट्रिब्यून अख़बार को बताया कि चीता को जॉनी वाइज़म्यूलर के घर से पाम हार्बर स्थित इस सैंक्च्यूरी में 1960 के आसपास लाया गया था.

इस चिंपाज़ी की लंबी आयु की वजह या इसका सबूत क्या है, ये बात साफ़ नहीं है.

दावे और भी

लेकिन टार्ज़न फ़िल्मों में काम करने का दावा केवल फ़्लोरिडा के चीता नाम के इस चिंपाज़ी का ही नहीं है.

लंबे समय तक ये दावा था कि कैलिफ़ोर्निया में रह रहे चीता नाम के ही एक और चिंपाज़ी ने टार्ज़न फ़िल्मों में काम किया था. लेकिन एक जीवनी के लिए किए गए शोध के बाद ये दावा वापस ले लिया गया है.

हो सकता है टार्ज़न फ़िल्मों के लिए एक से ज़्यादा चिंपाज़ी का इस्तेमाल किया गया था.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार