''मैं जो हूं अपने परिवार की वजह से हूं''

अभिषेक और ऐश्वर्या राय बच्चन इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption अभिषेक और ऐश्वर्या ने अभी तक अपनी बेटी का नाम नहीं रखा है.

ज़्यादातर लोग अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार और अपने माता-पिता को देते हैं. ऐसा ही कुछ अभिनेता अभिषेक बच्चन भी कर रहे हैं.

अगर आप अभिषेक बच्चन के करियर पर नज़र डालेंगे तो पाएंगे कि आज तक बॉक्स ऑफिस पर उनकी कम ही फ़िल्में सफल हुई हैं. हाल ही रिलीज़ हुई उनकी फिल्म 'प्लेयर्स' को भी मिली जुली प्रतिक्रिया मिली है. लेकिन फिर भी अभिषेक कहते हैं कि आज वो जहां भी हैं वो आपने माता पिता की वजह से हैं.

बीबीसी से एक खास बातचीत में अभिषेक बोले, ''मैंने हमेशा से ही कहा है कि आज मेरे पास जो भी है मेरे मां-बाप की ही देन है. मैं जो भी हूं उन्ही की वजह से हूं. मैं उन्ही की वजह से आज यहां तक पहुच पाया हूं. मैं मानता हूं कि हमें अपने परिवार को, अपने माता-पिता को धन्यवाद देने का एक भी मौका गवाना नहीं चाहिए.''

अब जब अभिषेक खुद भी पिता बन चुके हैं तो एक बच्चे के जीवन में माता-पिता के योगदान को वो और भी बेहतर तरीके से समझने लगे हैं.

अभिषेक कहते हैं, ''आज जब मैं रातों को अपनी बच्ची के लिए जागता हूं, या फिर जब भी उसके लिए कुछ करता हूं तो मुझे महसूस होता है कि मेरे मां-बाप ने मेरे लिए कितना कुछ किया है. पहले मैं सोचता था कि ये तो उनका फ़र्ज़ है और वो ये करेंगे ही लेकिन अब मेरी ये सोच बदल गई है. आज की तारीख़ में मैं आपने माता-पिता की ज़्यादा इज्ज़त करने लगा हूं, उनसे ज़्यादा प्यार करने लगा हूं.''

अपनी बेटी की बात करते हुए अभिषेक कहते हैं, ''मैं चाहता हूं कि वो हमेशा खुश रहे और तंदरुस्त रहे.''

अभिषेक के पिता अमिताभ बच्चन और माता जया बच्चन दोनों ही हिंदी सिनेमा जगत के माने हुए कलाकार हैं, अभिषेक की पत्नी ऐश्वर्या राय बच्चन भी अभिनेत्री हैं, तो ऐसे में अभिषेक से ये सवाल पूछना बनता है कि क्या उनकी बेटी भी आगे चल कर अभिनय ही करेगी?

बीबीसी को इस सवाल का जवाब देते हुए अभिषेक बोले, ''वो आपने जीवन में जो भी करना चाहेगी उससे मुझे ख़ुशी ही मिलेगी. मैं बस चाहता हूं कि वो जो भी करे उसमे वो खुश रहे. अगर वो अभिनय करना चाहेगी तो ये बच्चन खानदान की तीसरी पीढ़ी होगी जो फ़िल्मों में होगी और इससे ज़्यादा गर्व की बात मेरे लिए क्या हो सकती है.''

अभी तक अभिषेक बच्चन ने अपनी बेटी का नाम नहीं रखा है. अभिषेक कहते हैं, ''मेरा एक दोस्त है जिसने दो साल तक आपने बेटे का नाम नहीं रखा था. मुझे समझ नहीं आ रहा कि लोग मुझ पर अपनी बेटी का नाम रखने का इतना दबाव क्यों डाल रहे हैं.''

साथ ही अभिषेक बोले, ''हमरा परिवार रिवाज़ों में यकीन नहीं रखता है. हम नामकरण संस्कार नहीं करवाते. मेरे दादा, हरिवंश राय बच्चन, ऐसे सभी रीती-रिवाज़ों के कड़े विरोधी थे. वैसे भी अभी तक मुझे अपनी पत्नी और परिवार के साथ बैठ कर अपनी बेटी का नाम तय करने का वक़्त नहीं मिला है. हम जब भी अपनी बेटी का नाम रखेंगे परिवार के हर सदस्य की सहमती से ही रखेंगे.''

संबंधित समाचार