हिन्दी फिल्मों की जर्मन दीवानियाँ

फर्दा बॉस पिछले कई वर्षों से जर्मन लड़कियों को बॉलीवुड डांस की शिक्षा दे रही हैं इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बड़े से एक स्टेज पर 15 जर्मन लड़कियाँ कोली अंदाज़ में साड़ियाँ पहने पेशेवर तरीके से नाच रही हैं. उनके सामने खड़े जर्मन दर्शक काफी प्रभावित हैं और सीटियाँ बजाकर तालियों से इन लड़कियों को बधाई दे रहे हैं. बाहर सर्दी है लेकिन अंदर माहौल काफी गर्म है. ये लड़कियां एक मराठी गाने पर नाच रही हैं. उनके प्रदर्शन को देख कर कोई भी नहीं कह सकता कि इनमें से कोई भी कभी भारत नहीं गया होगा.

उनके बढ़िया प्रदर्शन पर एक अधेड़ उम्र की जर्मन महिला ने नाच ख़त्म होने के बाद उन्हें बधाई देते हुए कहा,”आपका भारतीय डांस हमें बहुत पसंद आया. आप सभी लोगों ने बहुत अच्छा नाचा. आपने मेरा दिल जीत लिया.”

जर्मनी के लोग तारीफ़ करने में कम शब्दों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन ये महिला तारीफ़ के पुल बाँध रही थीं और तारीफ़ करते समय इमोशनल भी हो गईं. इसके बाद इन लड़कियों को लोगों ने घेर लिया और ढेर सारी बधाइयां दीं. उत्सव बेली डांस का था लेकिन फ़र्दा बॉस के नेतृत्व में बॉलीवुड गानों के इस शो की सब से अधिक प्रशंसा की गई.

फ़र्दा कहती हैं,”जब मैं स्टेज पर जाती हूँ तो थोडा डर लगता है लेकिन बाद में मैं गाने में खो जाती हूँ. और खुद को एक स्टार से कम नहीं समझती.” पिछले महीने जर्मनी के शहर हैनोवर में बेली डांस पर एक बड़ा फेस्टिवल आयोजित हुआ था.

इस उत्सव में जनता की माँग पर बॉलीवुड डांस का एक शो शामिल किया गया, जिसमें फ़र्दा की टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन करके सबका दिल जीत लिया था.

ललक

फ़र्दा बॉस बॉलीवुड फिल्मों और गानों की एक्सपर्ट हैं. हैनोवर में बॉलीवुड का मतलब फ़र्दा बॉस. पहले वह बॉलीवुड की फैन बनीं और अब वो एक पेशेवर बॉलीवुड डांसर हैं. और पिछले कुछ सालों से जर्मनी में वह जर्मन लड़कियों को बॉलीवुड डांस की शिक्षा भी देती हैं.

वे कहती हैं,”बचपन में मेरे पिता मुझे हिंदी फ़िल्में दिखाने सिनेमा घर ले जाया करते थे. तब से हमें बॉलीवुड से लगाव है.” फ़र्दा से जब मैं पहली बार मिला तो वो जर्मन लड़कियों को हिंदी गाने और नाच की प्रैक्टिस करवा रही थीं. जब उन्होंने ब्रेक लिया तो एक स्थानीय जर्मन टीवी को इंटरव्यू देने बैठीं. टीवी वाले हैनोवर में बॉलीवुड की पहुँच पर एक कहानी तैयार कर रहे थे जिसके लिए उन्होंने फ़र्दा और बॉलीवुड की दीवानी उनकी कुछ सहेलियों का इंटरव्यू किया. फ़र्दा भारत जाने के लिए बेताब रहती हैं लेकिन अब तक उन्हें जाने का मौक़ा नहीं मिल सका है. शायद इसी लिए वो अक्सर जर्मनी में ही मिनी भारत का माहौल बनाती रहती हैं. भारत से उन्हें बहुत प्यार है.

वे कहती हैं,”मुझे लगता है मैं पिछले जन्म में राजस्थान की एक राजकुमारी थी.”

फ़र्दा का शरीर तुर्की का है लेकिन इसमें छिपा दिल हिन्दुस्तानी है जो बॉलीवुड के गानों पर हमेशा धड़कता रहता है. फ़र्दा के माता-पिता तुर्की से जर्मनी 40 साल पहले आये थे जब फ़र्दा केवल एक साल की थीं.

बढ़ता क्रेज़

फ़र्दा कहती हैं जर्मनी में बॉलीवुड का क्रेज़ बहुत है और यह बढ़ता ही जा रहा है.

"मेरे पास बहुत लड़कियाँ आती हैं डांस सीखने. मैं जब फेसबुक में इश्तहार देती हूँ तो तुरंत लोगों के फोन आने लगते हैं." फ़र्दा की कई सहेलियों ने मुझसे बातचीत के दौरान फ़र्दा के बॉलीवुड से लगाव की तारीफ़ की. फ़र्दा का यहाँ एक छोटा फैन क्लब भी है. इसकी एक मेम्बर ने कहा उन्हें फ़र्दा का डांस इतना पसंद आया कि मैंने अपनी बेटी को भी उनकी क्लास में डांस सीखने भेज दिया. मैं जर्मनी गया था यह जानने की वहाँ बॉलीवुड का क्रेज़ क्यों हैं. फ़र्दा खुद इसकी एक मिसाल हैं. उनके विचार में इसका कारण यह है कि जर्मनी में घर से बाहर अपनी भावनाओं को ज़ाहिर करना मुश्किल था.

वे कहती हैं,”सामाजिक तौर पर ये परंपरा थी ही नहीं. बॉलीवुड ने यह बदल दिया. अब इन गानों के ज़रिये लडकियां अपनी भावनाओं का इज़हार करने लगी हैं.” फ़र्दा शाहरुख खान की एक बड़ी फैन हैं और उनकी सात साल की बेटी निसा भी. लगाव का ये आलम है कि जब मैं उनसे हैनोवर में रिहाईश के आख्री दिन मिला तो वो कुछ लड़कियों के साथ शाहरुख खान की फिल्म “कुछ कुछ होता है” पर एक वीडियो रिकॉर्ड कर रही थीं.

उन्होंने कहा,”यह वीडियो हम केवल अपने लिए बना रहे हैं."

हैनोवर की फ़र्दा बॉस और मराकश के अब्दुल जैसे बॉलीवुड से इश्क करने वाले मेरी विदेश यात्रा के दौरान मुझे कई और लोग मिले. बॉलीवुड के विदेशी भक्तों ने मुझे स्पेन और स्विट्ज़रलैंड से ईमेल पर संपर्क भी किया. इससे साफ़ ज़ाहिर होता है बॉलीवुड की कशिश और प्रभाव ने कई लोगों की जिंदगियाँ बदल दी हैं.

संबंधित समाचार