सत्यमेव जयते: आमिर ने उठाया शराब की लत का मुद्दा

आमिर खान इमेज कॉपीरइट AFP Getty
Image caption अपने टीवी शो के जरिए सामाजिक मुद्दों को उठा रहे आमिर खान.

चर्चित बॉलीवुड स्टार आमिर खान ने अपने टीवी शो 'सत्यमेव जयते' के ताजा अंक में शराब और उसके बुरे परिणामों पर चर्चा की है, जिसमें मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने बताया कि कैसे वे 27 साल तक नशे में डूबे रहे.

शो में मौजूद ऑडियंस में लगभग सभी लोगों की उम्र तीस से कम थी. इनमें किसी को ये कूल लगता है तो कोई बॉस का साथ देने के लिए शराब पीता है तो किसी को शराब पीना खास रुबते की निशानी लगता है. लेकिन शो का मकसद शराब की वजह से बर्बाद होती जिंदगियों को उभारना था.

मशहूर गीतकार और पटकथा लेखक जावेद अख्तर ने शो पर माना कि उनकी जिंदगी में एक वक्त था जब वे शराब की लत के शिकार थे. उन्होंने बताया कि स्नातक करने के बाद 19 साल की उम्र में वो मुबई चले गए और दोस्तों के साथ पीना शुरू कर दिया.

'शराब में की सारी गलतियां'

जावेद अख्तर 27 साल तक पीते रहे लेकिन एक बार उससे तौबा की तो अब 21 साल से शराब को छूआ नहीं है.

जावेद अख्तर बताते हैं, “बाद के 11-12 साल तो ऐसे थे जब मैं रोज रात को एक बोलत शराब पीता था.”

जावेद अख्तर के मुताबिक शराब में एक बड़ा ग्लैमर है. “लोग समझते हैं कि अगर हम शराब पी रहे हैं तो लगता है कि बड़े हो गए हैं, वयस्क हो गए हैं.” लेकिन उन्होंने जोर देकर कहा कि शराब में कोई ग्लैमर नहीं है. जावेद अख्तर ने कहा, “मैंने कोई गलती शराब पिए बिना नहीं की.”

शो में शराब की लत को भुगतने वाले कई लोगों ने अपने अनुभव बांटे जिनमें पत्रकार विजय सिम्हा भी शामिल थे. उन्होंने बताया कि वो जितनी बड़ी स्टोरी करते थे, उतनी ही ज्यादा शराब पीते चले गए.

इमेज कॉपीरइट pr
Image caption जावेद अख्तर ने बताया कि उन्होंने 19 साल की उम्र से शराब पीना शुरू कर दिया था

एक बार उनके पिता ने उन्हें पत्र लिखा और कहा, “तुम्हारे जैसे बेटा होना श्राप है.” इसके कुछ ही दिनों बाद उनके पिता की मौत हो गई. फिर उनकी जिंदगी का रुख बदला.

शो में शराब की लत के कारण पैदा होनी वाली हिंसा, घरेलू हिंसा और नशे में ड्राइविंग से होने वाले हादसे जैसी समस्याओं को उठाया गया. शो में पंजाब के एक गांव चंगाल के लोगों से भी मिलवाया गया जिन्होंने अपने गांव में शराब की दुकान बंद करा दी.

शराब की लत दुनिया के कई देशों की तरह भारत में आम समस्या है.

ये लत अकसर मौजमस्ती के साथ शुरू होती हैं लेकिन कई बात ये शौक से जल्दी ही लत में तब्दील हो जाती है. शो में इस बात पर जोर दिया गया कि अगर इच्छाशक्ति हो तो इस लत से छुटकारा पाया जा सकता है.

संबंधित समाचार