मौत से भी नहीं थमा जिंदगी का जश्न

Image caption सुनील आनंद अब तक फिल्मों से दूर रहे हैं.

अपनी ज़िंदादिली के कारण ना सिर्फ अपने फैन्स बल्कि पूरी फिल्म इंडस्ट्री के दिलों पर राज करने वाले सदाबहार अभिनेता स्वर्गीय देव आनंद का आज जन्मदिन है.

ये पहला मौका है जब उनके बगैर उनका जन्मदिन मनाया जाएगा.

देव आनंद के बेटे सुनील आनंद ने बीबीसी को बताया कि इस बार भी उनके पिता का जन्मदिन ठीक उसी तरह से मनाया जा रहा है जैसे उनके रहते मनाया जाता था. सवाल यह है कि आख़िर कैसे मनाते थे देव आनंद अपना जन्मदिन?

मीडिया से मिलना-जुलना

सुनील ने बीबीसी से कहा कि उनके पिता को मीडिया से मिलना जुलना बेहद पसंद था और हर साल वो अपने जन्मदिन पर पत्रकारों को बुलाकर अपनी आगे की योजनाओं की चर्चा करते थे.

इसलिए इस बार के आयोजन में भी सुनील ने भी पत्रकारों को खासतौर पर न्योता दिया है. सुनील के अनुसार, ''इस आयोजन में पत्रकारों के अलावा परिवार के सदस्य, कुछ करीबी मित्र और देव साहब के कुछ पुराने चाहने वाले भी शामिल होंगे जो हर साल उन्हें जन्मदिन की बधाई देने आया करते थे. इस मौके पर सुनील उन सात कहानियों के बारे में भी बात करेंगे जो देव आनंद अपने पीछे छोड़ गए हैं और अब वे उन्हें फिल्म का रूप देना चाहते हैं.''

सुनील ने अपने पिता की दी हुई एक सीख की ख़ासतौर पर चर्चा करते हुए कहा, ''मेरे पिता जी हमेशा आगे देखने की ही सीख देते थे, उन्हें पीछे देखना बिल्कुल पसंद नहीं था. उनके इस जन्मदिन पर मैं भी आगे देखते हुए एक फिल्म की घोषणा करूँगा. मैं खुद फिल्म के निर्माण के अलावा अभिनय और निर्देशन भी करना चाहूँगा. अगले कुछ महीनों में इससे जुडी और जानकारी आप तक पहुंचाऊंगा.''

संग्रहालय

देव आनंद को जूतों, कपड़ों और स्कार्फ पहनने और जमा करने का बड़ा शौक था.

सुनील अब देव साहब के इन सामानों को जमा करके इनका 'नवकेतन' स्टूडियो में ही प्रदर्शनी लगाएंगे.

नवकेतन के एक हिस्से संग्रहालय में बनाया जाएगा और बाकी का हिस्सा स्टूडियो के तौर पर इस्तेमाल होगा जहां आगे भी फिल्में बनती रहेंगी.

संग्रहालय में देव आनंद की कुछ अनूठी तस्वीरें भी लगाई जायेंगी जो उनकी विभिन्न अंतराष्ट्रीय यात्राओं और शूटिंग से जुड़ीं होंगी. अपने पिता की ज़िंदादिली और उनके सपनों को याद करते हुए सुनील ने अपने पिता स्वर्गीय देव आनंद को जन्मदिन की बधाई दी.

'गाइड', 'ज्वेल थीफ़' और 'काला पानी' जैसी अनेक बेमिसाल फ़िल्मों के लिये जाने जाने वाले देव आनंद ने दिसंबर 2011 में इस दुनिया को अलविदा कह दिया था.

संबंधित समाचार