जूही चावला को रोना क्यों आता है...

 रविवार, 27 जनवरी, 2013 को 09:36 IST तक के समाचार

अंदाज़ अपना-अपना, जूही चावला की पसंदीदा फिल्म है.

वर्ष1994 में रिलीज़ हुई फिल्म 'अंदाज़ अपना अपना' एक हास्य फिल्म के तौर पर खासी लोकप्रिय रही है, लेकिन अभिनेत्री जूही चावला को ये फिल्म देखकर रोना आ जाता है.

मुंबई में मीडिया से मुखातिब हुईं जूही चावला कहती हैं, "मुझे ये फिल्म देखकर इतनी हंसी आती है कि हंसते-हंसते आंखों में आंसू आ जाते हैं. मैं रोने लगती हूं. आमिर, सलमान, करिश्मा, रवीना, परेश जी से लेकर हर किसी ने जानदार काम किया. बिलकुल परफेक्ट कास्टिंग थी फिल्म की."

जूही चावला ने भी इस फिल्म में बतौर अतिथि कलाकार काम किया था.

हैरानी का बात तो ये है कि फिल्म 'अंदाज़ अपना अपना' को बॉक्स-ऑफिस पर कामयाबी नहीं मिल पाई थी. लेकिन उसके बाद सीडी और डीवीडी पर इसे कई लोगों ने देखा और सैटेलाइट टीवी पर भी इसे खासी कामयाबी मिली."

गोविंदा और जॉनी लीवर पसंद

जूही चावला अपने पसंदीदा हास्य कलाकारों में जॉनी लीवर और गोविंदा का नाम लेती हैं.

"मैं ये नहीं कहती कि मौजूदा दौर अच्छा है या बुरा, लेकिन अब फिल्मों में पाश्चात्य सभ्यता ज़्यादा दिखती है. कपडों में भी और सोच में भी."

जूही चावला, अभिनेत्री

वो कहती हैं, "जॉनी भाई को तो कई बार कुछ बताने की ज़रूरत भी नहीं पड़ती. वो अपने आप से कुछ-कुछ करके सीन में जान डाल देते हैं. जहां तक गोविंदा की बात है तो क्या कहा जाए. उनकी हिंदी इतनी ज़ोरदार है कि वो अपने इस भाषा ज्ञान का इस्तेमाल कर बेहतरीन हास्य पैदा कर लेते हैं."

जूही चावला एक निजी चैनल पर आने वाले एक कॉमेडी प्रोग्राम को प्रमोट कर रही थीं.

कहां गई वो मासूमियत

जूही चावला कहती हैं कि 90 के दशक में जब वो ज़्यादा सक्रिय थीं, तब की हिंदी फिल्मों में एक मासूमियत हुआ करती थी, एक भारतीयता होती थी जो अब की फिल्मों में नहीं होती.

"मैं ये नहीं कहती कि मौजूदा दौर अच्छा है या बुरा, लेकिन अब फिल्मों में पाश्चात्य सभ्यता ज़्यादा दिखती है. कपडों में भी और सोच में भी."

जूही कहती हैं कि हाल ही में कुछ ऐसी फिल्में आईं जो थोड़ी मूर्खतापूर्ण थीं लेकिन उन्हें देखने में उन्होंने खासा लुत्फ उठाया.

वे कहती हैं, "बोल बच्चन, हाउसफुल 2 और सन ऑफ सरदार जैसी फिल्में भले ही सिली थीं लेकिन कुछ मज़ा तो आया उन्हें देखकर."

बात आइटम सॉन्ग की चली तो जूही बोलीं, "लोग ऐसे गाने देखेंगे और मज़े लेंगे तो ऐसे गाने आते रहेंगे. चाहे कोई कुछ भी बोले."

जूही चावला ने बच्चों की एनिमेशन फिल्म 'मैं कृष्णा हूं' में डबिंग की है. साल 2012 में उनकी फिल्म सन ऑफ सरदार रिलीज़ हुई थी जो बॉक्स ऑफिस पर हिट रही थी.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.