कोंकणा सेन की 'रोमांचक पत्रकारिता'

 सोमवार, 28 जनवरी, 2013 को 19:40 IST तक के समाचार
कोंकणा सेन शर्मा

कोंकणा सेन शर्मा गौतम घोष की फिल्म 'शून्य अंको' में काम कर रही हैं.

पेज-3 फिल्म में पत्रकारिता का ज़ायका चख चुकीं अभिनेत्री कोंकणा सेनशर्मा एक बार फिर पर्दे पर ही सही, इस पेशे का स्वाद चखने जा रही हैं.

कोंकणा ने भले ही अभिनय को अपना पेशा बनाया है लेकिन वे मानती हैं कि पत्रकारिता का क्षेत्र रोमांच से भरपूर है.

कोंकणा कहती हैं, "पत्रकारिता का दायरा काफी बड़ा है. इसे किसी एक विशेषण से परिभाषित करना संभव नहीं है. लेकिन राजनीतिक और अपराध की रिपोर्टिंग काफी रोमांचक लगती है."

अपनी मां अपर्णा सेन की फिल्म 'ईति मृणालिनी' के बाद अब वो गौतम घोष की फिल्म 'शून्य अंको (जीरो एक्ट)' में अभिनय कर रही हैं.

कोंकणा का मानना है कि इस फिल्म में उनका क़िरदार 'पेज थ्री' के क़िरदार से अलग है.

'शून्य अंको' का संगीत रिलीज होने के मौके पर कोलकाता आईं कोंकणा के मुताबिक वो निजी जीवन के बारे में बात करना पसंद नहीं करतीं.

क्या पत्रकारों को अपने पेशे की मांग पर किसी की निजी जिंदगी में ताक-झांक करनी चाहिए?

इस सवाल पर वो कहती हैं, "ये कई चीजों पर निर्भर है. लेकिन मैं मानती हूं कि हर चीज की एक सीमा होनी चाहिए."

लंबे समय बाद वापसी

"पत्रकारिता का दायरा काफी बड़ा है. इसे किसी एक विशेषण से परिभाषित करना संभव नहीं है. लेकिन राजनीतिक और अपराध की रिपोर्टिंग काफी रोमांचक लगती है."

कोंकणा सेन शर्मा, अभिनेत्री

कोंकणा कहती हैं कि अभी उनके बेटे के पालन-पोषण में काफी समय निकल जाता है. इसलिए वो इन दिनों कम काम कर रही हैं और लंबे अरसे बाद इस बांग्ला फिल्म में काम करने के लिए उन्होंने हामी भरी.

वे कहती हैं, "गौतम घोष की फिल्म ठुकराना मुश्किल है. अनाप-शनाप फिल्में हाथ में लेने से अच्छा है कि ऐसी फिल्में की जाएं जिनसे गंभीर सामाजिक संदेश दिए जा सकें. समाज को निखारने में आखिर फिल्मों की भी तो भूमिका होती है."

फिल्म 'शून्य अंको' के बारे में वो कहती हैं, "इसमें आजकल की ज्यादातर फिल्मों की तरह अर्थहीन मनोरंजन नहीं है. इस कहानी का एक संदेश है. मैं इसमें राका बोस नाम की एक आदर्श पत्रकार की भूमिका में हूं जो अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों से पूरी तरह अवगत है. गौतम घोष जैसे फिल्मकार के निर्देशन ने इस किरदार को आदर्श बना दिया है."

अपर्णा सेन के अलावा ऋतुपर्णो घोष, मधुर भंडारकर और गौतम घोष जैसे दिग्गज निर्देशकों के साथ काम करने से अभिनय और करियर पर कैसा असर पड़ा है?

इस सवाल पर कोंकणा कहती हैं, "इन फिल्मकारों के साथ काम करने के दौरान मैंने काफी कुछ सीखा है. लेकिन मैं अब भी खुद को वैसी ही मानती हूं जैसी शुरूआती दौर में थी. अभिनय एक सतत प्रशिक्षण प्रक्रिया है."

कोंकणा की आने वाली फिल्म है 'एक थी डायन', जिसमें कल्कि कोचलिन, हुमा क़ुरैशी और इमरान हाशमी की भी मुख्य भूमिका है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.