फारुख़ मुझे बख़्श दो: दीप्ति नवल

दीप्ती नवल,अभिनेत्री
Image caption दीप्ती नवल और फारुख शेख़ एक साथ फिल्म 'लिसन अमाया' में नज़र आएंगे.

'लिसन अमाया'- ये फ़िल्म दीप्ति नवल और फारुख़ शेख़ के प्रशंसकों के लिए काम की हो सकती है क्योंकि लगभग 28 साल बाद ये जोड़ी बड़े पर्दे पर फिर से एक साथ नज़र आएगी. इतने साल बाद एक साथ काम करने के अनुभव को बांटते हुए दीप्ति फारुख़ के बारे में कहती हैं, "फारुख़ ज़्यादा नहीं बदले हैं,बस थोड़े मोटे ज़रुर हो गए हैं. वो पहले भी मेरी खिंचाई करते थे अब भी करते हैं.मैं उनसे कहती हूं कि अब तो मुझे बख्श दो,लेकिन उनका मज़ाक चलता रहता है."

1981 में बनी 'चश्मे बद्दूर' को याद करते हुए दीप्ति ने कहा "हमें ऐसा लगता था, जैसे हम पिकनिक मनाने आए हैं.बस मज़े करते थे और घर चले जाते थे.हमें पता ही नहीं था कि हम कोई ऐसी फ़िल्म बना रहे हैं, जो हिंदी सिनेमा के इतिहास की यादगार फ़िल्म बन जाएगी. जो 80 के दशक की मासूमियत दिखाएगी."

डायलॉग भूल जाती थी

अपनी समकालीन अभिनेत्री स्मिता पाटिल और शबाना आज़मी के बारे में दीप्ति का कहना है कि उनके आने से पहले ये दोनों ही फ़िल्मों में अपनी जगह बना चुकी थी.

दीप्ति के अनुसार "मुझे जो काम मिला वो शायद मैं ही कर पाती.'चश्मेबद्दूर' शायद शबाना या स्मिता नहीं कर पाती.जब मैंने 'एक बार फिर' में काम किया था तो शबाना ने मुझसे कहा था कि ये रोल मुझे क्यों नहीं मिला."

संजीव कुमार को अपना पंसदीदा कलाकार बताते हुए दीप्ति नवल ने कहा "अंगूर फ़िल्म की शूटिंग के दौरान संजीव कुमार जब भी अपना सीन करते थे मैं अपना डायलॉग भूल जाती थी.मैं उन्हें देखकर मोहित हो जाती थी.हर बार वो कुछ और ही कर देते थे और मैं अचंभित होती रहती थी."

एक्टिंग मिस करती हूं

आजकल यदा कदा ही कम फ़िल्मों में नज़र आने का कारण दीप्ति बताती हैं "मैं एक्टिंग मिस करती हूं.जब मुझे अच्छा रोल नहीं मिलता. मुझे ऐसे ही बोरिंग से रोल मिलते हैं और मैं हां नहीं करती हूं तो मुझे बुरे लगता है.पर आखिरकार मैं तो एक्टर हूं और जब ज़्यादा हो जाता है तो फिर कोई ना कोई फ़िल्म साइन कर लेती हूं."

दीप्ति के मुताबिक भारत की मनोरंजन इंडस्ट्री में युवाओं और सेक्स जैसे विषयों के लिए जगह है,40 पार लोगों से जुड़े मुद्दों पर कम कहानियां लिखी जाती है इसलिए रोल भी नहीं मिलते.

दीप्ति नवल की फ़िल्म 'लिसन अमाया' एक फरवरी को रिलीज़ होने वाली है.

संबंधित समाचार