सलमान हैं बॉलीवुड के रजनीकांत:विक्रम

डेविड,हिंदी फिल्म
Image caption हिंदी फिल्म डेविड में अभिनेता विक्रम ने एक मछुआरे का रोल निभाया है.

तमिल फिल्मों में अपनी अलग पहचान बना चुके अभिनेता विक्रम, शुक्रवार को रिलीज़ हुई हिंदी फिल्म 'डेविड' में मुख्य भूमिका में नज़र आ रहे हैं.

हालांकि ये पहली बार नहीं है कि विक्रम ने किसी हिंदी फिल्म में काम किया हो.इससे पहले 2010 में आई मणि रत्नम की फिल्म 'रावण' में भी विक्रम ने अहम रोल निभाया था.इसके अलावा तमिल फिल्म 'अनियन' के हिंदी में डब संस्करण 'अपरिचित' से भी विक्रम को पहचान मिली थी.

बीबीसी से बातचीत में विक्रम ने कहा कि उनके लिए डेविड एक तरह से हिंदी फिल्मों में पहला प्रवेश है क्योंकि पहली बार हिंदी फिल्म देखने वालों ने उनकी तारीफ की है जिसे सुनकर वो बारिश में खुशी से झूम रहे हैं.

सलमान में जादू है

बॉलीवुड कलाकारों के बारे में अपनी राय रखते हुए विक्रम ने कहा "सलमान मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं.वो कमाल कर रहे हैं आजकल.मैं उनसे कहता हूं कि तुम्हें तो स्क्रिप्ट की ज़रुरत ही नहीं है,तुम्हारा आकर्षण ही सारा काम कर देता है."

सलमान को बॉलीवुड का रजनीकांत बताते हुए विक्रम ने कहा "वो कुछ भी कर सकते हैं. दबंग जैसी फिल्म करके लोगों को पागल कर देना सबके बस की बात नहीं.दबंग की कहानी से ज़्यादा शायद सलमान के जादू ने काम किया."

विक्रम ने बताया "मैंने सलमान से कहा तुम बॉलीवुड में रजनीकांत जैसा कर रहे हो.ये हर कोई नहीं कर सकता.मुझे लगता है पूरी दुनिया में रजनीकांत कुछ भी कर सकता है और अब सलमान भी कर रहा है."

दक्षिण फिल्मों के रिमेक

पिछले कुछ सालों से दक्षिण भारत की फिल्मों के हिंदी रिमेक काफी प्रचलन में है. इस पर विक्रम कहते हैं "देखिए ये एक ट्रेंड है.अचानक लोगों को ये रिमेक काफी पसंद आने लगे हैं क्योंकि शायद लोग रोमांटिक फिल्मों से थोड़ा बोर हो गए थे.पता नहीं ये रिमेक कितने दिन चलेगा,हो सकता है अगले 6 महीने में इससे बोर हो जाएं फिर कुछ नया आ जाएगा."

जहां तक बॉलीवुड के दर्शकों की बात है तो विक्रम के मुताबिक हिंदी फिल्मों को देखने वाले दिमाग से ज़्यादा विकसित और खुले हुए है. दक्षिण में मल्टीप्लेक्स दर्शकों की काफी कमी है इसलिए वहां ज़्यादा प्रयोगात्मक फिल्में नहीं बनती,टिपिकल फिल्में ही बनती है.कुछ ऐसा बनाना पड़ता है जो अलग हो लेकिन इतना भी नहीं कि किसी को समझ ना आए.