'स्लमडॉग' के डैनी की 'ट्रांस'

  • 4 अप्रैल 2013
Image caption फिल्म 'ट्रांस' के लंदन प्रीमियर पर अभिनेत्री रोजारियो डॉसन के साथ निर्देशक डैनी बॉयल.

आठ ऑस्कर पुरस्कार जीतने वाली फिल्म 'स्लमडॉग मिलियनेयर' बनाने वाले ब्रितानी निर्देशक डैनी बॉयल की ताज़ा फिल्म है 'ट्रांस' जो इस सप्ताह ब्रिटेन में रिलीज़ हुई.

ये फिल्म एक साइकॉलोजिकल थ्रिलर है. फिल्म में जेम्स मैक्वॉय, रोजारियो डॉसन और विन्सेंट कासेल जैसे कलाकार काम कर रहे हैं.

फिल्म की कहानी के मुताबिक़ एक नीलामी घर में काम करने वाला शख्स वहां की एक अमूल्य पेंटिंग अपने साथियों के साथ चुरा लेता है.

फिर वो अपनी याददाश्त खो जाने की बात कहकर दूसरे साजिशकर्ताओं को डबलक्रॉस करने की कोशिश करता है, जिसके बाद उसके साथी एक हिप्नोथेरेपिस्ट (सम्मोहन कला के जानकार) की मदद से उसकी याददाश्त वापस लाने की कोशिश करते हैं.

हिंसा प्रधान, थ्रिलर और प्रेरणादायी फिल्में बनाने वाले डैनी ने बीबीसी से ख़ास बातचीत में कहा कि उन्हें अलग-अलग तरह की फिल्में बनानी पसंद है और वो किसी एक ही विधा की फिल्में बनाने के पक्ष में नहीं है.

डैनी कहते हैं, "अलग-अलग तरह की फिल्में बनाने में एक बड़ा फायदा ये है कि लोग आपके नए काम की तुलना पिछले काम से नहीं करेंगे और आप तनावमुक्त होकर फिल्म बना सकते हैं."

'हिंसा' का बचाव

डैनी फिल्मों में हिंसा के चित्रण का भी बचाव करते हैं. वो कहते हैं, "हिंसा, कहानी का बेहद महत्त्वपूर्ण हिस्सा होती है. हां, कुछ लोगों को ये पसंद नहीं आता. लेकिन ज़्यादातर लोग परदे पर इस तरह के दृश्य देखकर उससे आसानी से रिलेट कर पाते हैं. उन्हें एक्शन भाता है."

डैनी ने अपने करियर की शुरुआत 1994 में रिलीज़ हुई फिल्म शैलो ग्रेव से की थी जिसे बाफ्टा पुरस्कार मिला.

साल 2008 में 'बॉलीवुड' और मुंबई के झुग्गी झोपड़ी बस्ती को पृष्ठभूमि में रखकर बनाई गई फिल्म 'स्लमडॉग मिलेनियर' ने तहलका मचा दिया.

फिल्म में ए आर रहमान के संगीत ने भी धूम मचा दी और इसे कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में पुरस्कार मिले. साल 2010 में डैली बॉयल की एक और बेहद चर्चित फिल्म रिलीज़ हुई 127 ऑवर्स. इसका संगीत भी ए आर रहमान ने दिया था.

डैनी ने साल 2012 में हुए लंदन ओलंपिक के उद्घाटन समारोह का निर्देशन भी किया था. इसकी कामयाबी के बाद उन्हें नाइटहुड से सम्मानित करने की घोषणा की गई थी लेकिन डैनी ने ये सम्मान लेने से इनकार कर दिया था. उनका कहना था कि वो आम आदमी की तरह रहना चाहते हैं.

संबंधित समाचार