मशहूर गायक मन्ना डे का निधन

मन्ना डे
Image caption मन्ना डे हर तरह के गानों में माहिर समझे जाते हैं

जाने माने पार्श्व गायक मन्ना डे का बैंगलोर के एक अस्पताल में निधन हो गया है. वो 94 वर्ष के थे.

पिछले दिनों छाती में संक्रमण के कारण उन्हें बंगलौर के नारायणा हृदयालय अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. उनका देहांत आज सुबह तीन बजकर 50 मिनट पर हुआ.

मई में ही मन्ना डे का 94वां जन्मदिन मनाया गया था. इस मौके पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनसे मुलाकात की थी.

मन्ना डे को भारतीय संगीत की जानी मानी आवाजों में से एक माना जाता है. पचास और साठ के दशक में अगर हिंदी फ़िल्मों में राग पर आधारित कोई गाना होता, तो उसके लिए संगीतकारों की पहली पसंद मन्ना डे ही होते थे.

हरफनमौला गायक

मन्ना डे ने सभी संगीतकारों के लिये कभी शास्त्रीय, कभी रूमानी, कभी हल्के फुल्के, कभी भजन तो कभी पाश्चात्य धुनों वाले गाने भी गाए. इसीलिए उन्हें हरफनमौला गायक कहा जा सकता है.

मन्ना डे को संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है. उन्हें 1971 में पद्मश्री और 2005 में पद्म विभूषण से नवाजा गया था. साल 2007 में उन्हें प्रतिष्ठित दादा साहब फाल्के अवार्ड प्रदान किया गया.

संबंधित समाचार