'बेशरम' के बाद बेरोज़गार हो गया: रणबीर कपूर

  • 27 अक्तूबर 2013
रणबीर कपूर

"मेरे पास फ़िलहाल कोई नई फ़िल्म नहीं है." ये कहना है बॉलीवुड अभिनेता रणबीर कपूर का.

मुंबई में एक उत्पाद के प्रचार के मौके पर जब एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि इन ख़बरों में कहां तक सच्चाई है कि उन्होंने अपनी फ़ीस बढ़ाकर 20 करोड़ रुपए प्रति फ़िल्म कर दी है.

तो रणबीर कपूर बोले, "ये कैसी बातें कर रही हैं आप. क्या आपने मेरी पिछली फ़िल्म नहीं देखी. आपको नहीं पता कि उसका क्या हुआ. फ़िलहाल मैं बेरोज़गार हूं."

रणबीर ने ये बातें अपनी फ़िल्म 'बेशरम' का ज़िक्र करते हुए कही जो बुरी तरह से फ़्लॉ़प हो गई थी.

फ़िल्म में रणबीर के साथ उनके पिता ऋषि कपूर और मां नीतू कपूर ने भी काम किया था.

'अफ़सोस नहीं'

जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें 'बेशरम' करने का कोई अफ़सोस है तो वो बोले, "नहीं, मुझे अफ़सोस नहीं है. मां-बाप के साथ काम करने का मौक़ा मिला. निर्देशक अभिनव कश्यप के साथ काम किया तो अफ़सोस कैसा."

फिर वो बोले, "जहां तक नाकामी की बात है तो मैं बता दूं कि सफलता का कोई फॉर्मूला तो होता नहीं. बेशरम में भी हम सबने कड़ी मेहनत की. लेकिन फ़िल्म ख़राब बनी. लोगों को मैं पसंद नहीं आया. अगली बार और मेहनत करूंगा."

रणबीर ने बताया कि फ़िलहाल वो अनुराग कश्यप की फ़िल्म 'बॉम्बे वैलवेट' की शूटिंग कर रहे हैं जो उन्होंने 'बेशरम' शुरू होने से पहले ही साइन कर रखी थी.

जब उनसे पूछा गया कि आज से 20 साल बाद वो अपने करियर को कैसे देखते हैं, तो उन्होंने कहा, "तब मेरे बाल झड़ चुके होंगे और मैं उम्रदराज़ दिखने लगूंगा."

तब एक पत्रकार ने कहा कि मौजूदा दौर के कई कलाकार तो 50 पार के बाद भी अभिनय कर रहे हैं तो रणबीर कपूर ने कहा, "हां. लेकिन मैं अपने बारे में क्या कहूं. अब बहुत सारी दवाएं और सर्जरी भी उपलब्ध हैं. तो शायद मैं 20 साल बाद भी अच्छा लगूं."

सचिन का आख़िरी टेस्ट

रणबीर कपूर ने ये भी बताया कि वो वानखेड़े स्टेडियम जाकर सचिन तेंदुलकर का आखिरी टेस्ट देखने की पूरी कोशिश करेंगे.

उन्होंने कहा, "सचिन, क्रिकेट के भगवान हैं. मैं उनके आखिरी टेस्ट को लेकर बेहद रोमांचित भी हूं और दुखी भी, क्योंकि वो क्रिकेट से दूर जा रहे हैं."

रणबीर ने बताया कि वो बॉस्केटबॉल खिलाड़ी माइकल जॉर्डन के बहुत बड़े फ़ैन थे और जब उन्होंने संन्यास लिया तब भी उन्हें बहुत दुख हुआ था.

रणबीर ने कहा, "लेकिन सचिन सबसे परे हैं. उनका जवाब नहीं. उनके रिटायरमेंट पर हमें और ज़्यादा दुख होगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार