'हर चीज़ बैन करना मूर्खता है': सैफ़ अली ख़ान

  • 28 नवंबर 2013
'बुलेट राजा'
Image caption 'बुलेट राजा' में सैफ़ अली ख़ान एक अपराधी की भूमिका निभा रहे हैं.

गोलियों की धांय-धांय, बड़ी शान से पिस्तौल हाथ में थामे और बच्चों के खेल की तरह लोगों का ख़ून बहाते और हत्या करने के दौरान अपने दोस्त से हंसी मज़ाक़ करते सैफ़ अली ख़ान.

आने वाली फ़िल्म 'बुलेट राजा' के प्रोमो में यही देखने को मिल रहा है जिसमें सैफ़ अली ख़ान अपराधी की भूमिका निभा रहे हैं.

(सोनाक्षी की पसंद)

क्या ये अपराध का महिमामंडन करना नहीं है? जब फ़िल्म के प्रमोशन पर सैफ़ से ये पूछा गया तो वो बोले, "नहीं. बिलकुल नहीं. इससे 10 गुना ज़्यादा हिंसा वीडियोगेम्स में देखने को मिलती है जिसे बच्चे धड़ल्ले से खेलते हैं. लेकिन फ़िल्मों को सॉफ़्ट टारगेट बना दिया जाता है और ऐसी ही बातों को लेकर कभी उन पर बैन लगा दिया जाता है कभी सीन काटने को कह दिए जाते हैं."

सैफ़ के मुताबिक़ बैन लगाना किसी समस्या का समाधान नहीं है.

('मेरी किस्मत ख़राब')

उन्होंने कहा, "ऐसा तो है नहीं कि लोग फ़िल्म देखकर गन हाथ में पकड़ेंगे और सड़कों पर क़त्लेआम करने निकल पड़ेंगे. हर बात को बैन करना तो मूर्खता है. लोगों की समझदारी भी कोई चीज़ होती है."

'सौ करोड़ की उम्मीद नहीं'

'बुलेट राजा' में सैफ़ के साथ सोनाक्षी सिन्हा अहम किरदार में हैं और इसके निर्देशक हैं तिग्मांशु धूलिया. फ़िल्म से क्या उम्मीदें हैं.

सैफ़ ने कहा, "फ़िल्म अच्छी बन पड़ी है. लेकिन ऐसी फ़िल्मों से आप 100 करोड़ रुपए कमाने की उम्मीद नहीं करते. हां मैं ये ज़रूर चाहता हूं कि फ़िल्म पैसे बनाए. ये कमर्शियल फ़िल्म है. लेकिन ये तिग्मांशु की फ़िल्म है. जिनमें एक क्लास है. ये वैसी फ़िल्म नहीं है."

सैफ़ से जब पूछा गया कि वो बॉक्स ऑफ़िस रिज़ल्ट या समीक्षकों की तारीफ़ में से क्या ज़्यादा पसंद करते हैं तो उन्होंने कहा, "कितना अच्छा हो कि दोनों मिल जाएं. 200 करोड़ रुपए और राष्ट्रीय पुरस्कार साथ मिल जाएं तो क्या बात है."

ख़ान तिकड़ी से मुक़ाबला !

कई फ़िल्मों में समीक्षकों की तारीफ़ और दर्शकों की वाहवाही पाने के बाद भी सैफ़ अली ख़ान का नाम आमिर, सलमान और शाहरुख़ वाली लीग में क्यों नहीं है.

(आमिर ख़ान की तमन्ना)

इस पर सैफ़ ने कहा, "देखिए, वो तीनों ख़ान मुझसे सीनियर हैं. मैंने उन तीनों से बहुत कुछ सीखा है. मैं उनकी इज़्ज़त करता हूं. लेकिन मैं भी अपने आपको अच्छी स्थिति में पाता हूं और संतुष्ट हूं. अपने करियर की सबसे आरामदायक स्थिति में हूं."

Image caption 'बुलेट राजा' 29 नवंबर को रिलीज़ हो रही है.

मुंबई में रहने वाले सैफ़ को, मुंबई में शूटिंग करना बिलकुल पसंद नहीं है.

वो कहते हैं, "मुझे इस शहर की ऊर्जा बहुत पसंद है लेकिन यहां का मौसम बड़ा कष्टदायक रहता है. गर्मियों में तो ख़ासतौर पर. इसलिए मुझे लंदन जैसे शहर में शूटिंग करना पसंद है. जहां एक बार मेक-अप कराया और दिन भर शूटिंग कर ली."

बेटी का करियर

सैफ़ की बेटी सारा भी बड़ी हो चुकी हैं. क्या वो फ़िल्मों में काम करेंगी.

(सलमान पर शाहरुख़)

इस पर सैफ़ ने कहा, "अभी तो वो अपनी डिग्री के सिलसिले में अमरीका में है. फ़िल्मों में काम करने के लिए पहले उसे अपना वज़न कम करना पड़ेगा. क्योंकि वो माशाअल्लाह काफ़ी सेहतमंद हैं."

'बुलेट राजा', 29 नवंबर को रिलीज़ हो रही है. सैफ़ इसके निर्माता भी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित समाचार