'उत्तम के जाने के बाद सबसे दूर हो गईं थीं सुचित्रा'

सुचित्रा सेन इमेज कॉपीरइट courtesy.Hindustan Times
Image caption सुचित्रा सेन की देवदास और आंधी फ़िल्में हिन्दी में काफ़ी लोकप्रिय हैं. बांग्ला फ़िल्मों में उत्तम कुमार के साथ उनकी जोड़ी बेहद प्रसिद्ध रही.

"आंखों से अभिनय कैसे किया जाता है. ये कोई सुचित्रा सेन से सीखे." फ़िल्मकार कल्पना लाजमी ने बीबीसी से ख़ास बात करते हुए सुचित्रा सेन के बारे में अपने ये विचार व्यक्त किए.

कल्पना कहती हैं, "इस दौर की अभिनेत्रियों को चाहिए कि वो फ़िल्म 'आंधी' को सिनेमा स्टडी के तौर पर देखें. कैसे पूरी फ़िल्म में सुचित्रा सेन ने बिना ज़्यादा शारीरिक हाव-भाव के आंखों से अभिनय किया है."

कल्पना मानती हैं कि सुचित्रा सेन 'क्लोज़ अप्स' में जितनी ख़ूबसूरत लगती थीं, उतनी शायद ही कोई और अभिनेत्री लगे.

'दूर हो गईं थीं सबसे'

कल्पना ने बताया कि सुचित्रा उनके अंकल गुरुदत्त के ज़माने में ज़्यादा सक्रिय थीं.

('रहें ना रहें हम')

वो कहती हैं, "हिंदी फ़िल्मों में तो उन्होंने अपनी छाप छोड़ी ही लेकिन बांग्ला सिनेमा में तो उन्होंने तहलका मचा कर रख दिया. उत्तम कुमार और उन्होंने साथ में कई बेहतरीन फ़िल्में दीं. लेकिन उत्तम कुमार के कम उम्र में ही इस दुनिया से रुखसत हो जाने के बाद वो बेहद तन्हा हो गईं और उन्होंने अपने आपको सबसे दूर कर लिया."

ग़ौरतलब है कि साल 1978 में रिलीज़ हुई बांग्ला फ़िल्म 'प्रनॉय पाशा' के बाद उन्होंने फ़िल्मों से संन्यास ले लिया. इसके बाद वो सार्वजनिक जीवन से दूर हो गई थीं.

'गरिमामयी शख़्सियत'

Image caption सुचित्रा सेन बंगाली सिनेमा की जानी-मानी अदाकारा थीं. वो लंबे समय से सार्वजनिक जीवन से दूर रह रही थीं.

कुछ और अहम लोगों ट्विटर पर सुचित्रा सेन के निधन पर गहरा दुख जताया.

(सुचित्रा सेन वाया दिलीप कुमार)

अमिताभ बच्चन: एक और महान शख़्सियत हमारे बीच से चली गई. वो बेहद सुंदर, प्रतिभाशाली अभिनेत्री थीं. अपनी गरिमामय मौजूदगी से उन्होंने बंगाली और हिंदी सिनेमा को धन्य किया.

नरेंद्र मोदी: सुचित्रा सेन को श्रद्धांजलि. उनके जाने से हमने हिंदी और बांग्ला सिनेमा की एक महान शख़्सियत को खो दिया है.

रेखा भारद्वाज: मेरी पहली मेमोरी उनको लेकर फ़िल्म 'ममता' की है. मेरी उनकी सबसे पसंदीदा फ़िल्म 'आंधी' है.

श्रीदेवी बोनी कपूर: बड़ी ज़बरदस्त प्रतिभाशाली अभिनेत्री, अद्वितीय सुंदरी, महान सुचित्रा सेन के जाने से एक स्थान रिक्त हो गया. आने वाली सदियां उनसे प्रेरणा लेती रहेंगी.

सुषमा स्वराज: गरिमा और सुंदरता की अद्भुत सम्मिश्रण थीं सुचित्रा सेन. मैं उनके लिए श्रद्धांजलि व्यक्त करती हूं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार