'जय हो' ना चली तो मेरी ज़िम्मेदारी: सलमान ख़ान

इमेज कॉपीरइट jai ho

सलमान ख़ान की हालिया रिलीज़ फ़िल्म 'जय हो' के उम्मीदों से कम कमाई करने की ख़बरों के बीच सलमान ख़ान ने कहा है कि फ़िल्म ना चली तो इसकी ज़िम्मेदारी किसी और पर नहीं बल्कि ख़ुद उनके कंधों पर होगी.

मुंबई में एक प्रेस वार्ता के दौरान सलमान ने ये बात कही है.

'जय हो' 24 जनवरी को रिलीज़ हुई थी और सप्ताहांत के दौरान इसकी कमाई सलमान ख़ान की पिछली फ़िल्मों के मुक़ाबले कम रही है.

पूरे एक साल के बाद सलमान ख़ान के जलवे और ऐक्शन से भरपूर फ़िल्म आए लेकिन टिकट खिड़की पर जश्न का माहौल ना हो तो ख़बर बनना लाजमी है.

'जय हो' से उम्मीद थी कि सलमान के जादू की आंधी बॉक्स ऑफ़िस को एक बार फिर हिला देगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ. फ़िल्म को वैसी धुआँधार ओपनिंग नहीं मिली जिसकी उम्मीद की जा रही थी.

कारोबार

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption इस फ़िल्म का निर्देशन सोहेल ख़ान ने किया है. उनकी अंतिम निर्देशित फ़िल्म थी 'मैने दिल तुझको दिया'.

फ़िल्म व्यापार विशेषज्ञ कोमल नाहटा के मुताबिक़, ''पहले दिन फ़िल्म का कलेक्शन 17.75 करोड़. दूसरे दिन का कारोबार 16.75 करोड़ जबकि इतवार का कलेक्शन रहा 26.25 करोड़. यानी कुल मिलाकर तीन दिनों में कारोबार रहा 60.75 करोड़ रुपए.''

कोमल नाहटा कहते हैं कि ''ये कारोबार कम नहीं है लेकिन सलमान ख़ान की फ़िल्मों को जो शुरूआत मिलती है उस लिहाज से ये उम्मीद से कम रह गया है. सलमान की पिछली सारी फ़िल्में जिनसे तुलना की जा रही है वो ईद के मौक़े पर रिलीज़ हुई थीं. 26 जनवरी का मौक़ा ज़रूर था लेकिन त्यौहार जैसा कोई अवसर नहीं था. हालांकि फिर ये कहूंगा कि सलमान का वो करिश्मा दिखाई नहीं दिया.''

थियेटर श्रृंखला सिनेमैक्स इंडिया लिमिटेड के अध्यक्ष संजय दालिया बताते हैं, ''सप्ताहांत पर फ़िल्म का प्रदर्शन बुरा नहीं कहा जा सकता लेकिन उम्मीदों से तो कम ही था. सिनेमाघरों में तकरीबन 35 प्रतिशत सीटें ख़ाली ही रहीं. ख़ासकर उत्तर भारत में शुक्रवार को जिस तरह के प्रदर्शन की उम्मीद थी वो नहीं रहने से कमाई कम हुई है.''

ग़ौरतलब है कि साल 2012 में भारतीय स्वतंत्रता दिवस के दिन रिलीज़ हुई फ़िल्म 'एक था टाइगर' ने पहले ही दिन अपनी झोली में 32.5 करोड़ रुपए डाले थे. 'जय हो' का प्रदर्शन इसकी तुलना में कहीं नहीं ठहरता.

क्यों नहीं चला जादू

इमेज कॉपीरइट Jai Ho
Image caption फ़िल्म व्यापार विश्लेषक कोमल नाहटा कहते हैं कि डेज़ी शाह में वो ग्लैमर फ़ैक्टर नहीं है.

पिछले तीन-चार सालों से सलमान का सितारा बुलंदी पर चल रहा है. उन्होंने एक के बाद एक वॉन्टेड, दबंग, रेडी और बॉडीगार्ड जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्में दी हैं. ये सभी एक्शन फिल्में थीं. दबंग, रेडी और बॉडीगार्ड ने तो 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का व्यवसाय किया है.

कोमल नाहटा कहते हैं, ''अगर 'जय हो' का शुरुआती प्रदर्शन ठंडा है तो इसकी वजह सिर्फ़ ये नहीं कि सलमान का जादू नहीं चला. पिछली फ़िल्मों के ताबड़तोड़ प्रदर्शन के कई कारण थे जिनमें ख़ूबसूरत और ग्लैमरस हिरोइनों की भी बड़ी भूमिका थी. इस फ़िल्म के साथ ऐसा नहीं है. डेज़ी शाह में वो ग्लैमर फ़ैक्टर नहीं है. पिछली फ़िल्मों का संगीत भी बहुत ज़्यादा हिट रहा था जबकि जय हो के साथ ऐसा नहीं रहा है. इसका तो ट्रेलर भी उतना ज़बरदस्त नहीं था कि फ़िल्म की हवा बनती.''

हालांकि सिनेमैक्स के संजय दालिया कहते हैं, ''आने वाले हफ़्तों में ऐसी कोई बड़ी हिंदी फ़िल्म नहीं है जिससे इसकी कमाई में बहुत ज़्यादा गिरावट आने की बात कही जा सके. मेरे ख़्याल से अभी ये फ़िल्म ठीक-ठाक कारोबार करेगी. दर्शकों की संख्या कम हो सकती है लेकिन धीरे-धीरे करके कमाई होने की उम्मीद है.''

इमेज कॉपीरइट yash raj films
Image caption सलमान की फ़िल्म 'एक था टाइगर' ने पहले दिन रिकॉर्ड कमाई की थी.

फ़िल्म के प्रदर्शन को देखते हुए ये सवाल उठना लाज़मी है कि कहीं दर्शक एक ही सांचे में ढली सलमान ख़ान के दम पर चलने वाली ऐक्शन फ़िल्मों से बोर तो नहीं हो गए.

कोमल नाहटा इस बात से इनकार करते हुए कहते हैं, ''वजह ये भी है कि सलमान ख़ान के अपने चाहने वालों में शायद एक बड़ा हिस्सा थे जिसे फ़िल्म पसंद नहीं आई. ऐसे में दर्शकों के सिर्फ़ एक छोटे हिस्से के बल पर फ़िल्म को ब्लॉकबस्टर शुरुआत मिलना मुमकिन नहीं हो पाया.''

'जय हो' का निर्देशन सलमान ख़ान के छोटे भाई सोहेल ख़ान ने किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार