फ़िल्म रिव्यू: 'वन बाय टू'

'वन बाय टू' इमेज कॉपीरइट One by Two

रेटिंग: *1/2

वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स की 'वन बाय टू' कहानी है दो ऐसे लोगों की जिनकी ज़िंदगी एक दूसरे से प्रभावित होती है लेकिन हैरानी की बात ये है कि वो दोनों ना तो एक दूसरे को जानते हैं ना ही उनकी कभी मुलाक़ात हुई है. ये हैं अमित शर्मा (अभय देओल) और समरा (प्रीति देसाई).

(नहीं होती जलन: प्रीति देसाई)

अमित को अब तक अपनी ज़िंदगी में नाकामी ही हाथ लगी है. समरा अपनी मां (लिलेट दुबे) के साथ रहती है. वो एक बहुत कामयाब डांसर बनना चाहती है. और इसके लिए वो एक डांस रियलिटी शो में हिस्सा लेती है.

अमित उस डांस शो की वेबसाइट हैक करके उसके रिज़ल्ट में फ़ेरबदल करना चाहता है ताकि शो के प्रोड्यूसर को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़े. लेकिन क्यों. वो इसलिए क्योंकि उसी प्रोड्यूसर के लिए अमित की गर्लफ़्रेंड राधिका (गीता त्यागी) उसे छोड़ देती है.

इमेज कॉपीरइट Viacom

शो की वेबसाइट हैक करने की वजह से समरा शो से बाहर हो जाती है क्योंकि उसे कम वोट मिलते हैं. जबकि असलियत में उसे सबसे ज़्यादा वोट मिलते हैं.

('बगैर शादी के भी ख़ुश हूं')

उधर अमित की मां (रति अग्निहोत्री) उसे अपनी पसंद की लड़की से शादी करने के लिए कहती है, जबकि अमित ऐसा नहीं चाहता और सगाई के दिन वो लड़की वालों के परिवार से इतनी बुरी तरह से पेश आता है कि दोनों की शादी टूट जाती है.

फिर परिस्थितियों का चक्र कुछ ऐसा चलता है कि अमित का संगीतबद्ध किया हुआ एक गाना बेहद लोकप्रिय हो जाता है.

आगे की कहानी में समरा और अमित किस तरह से एक दूसरे को प्रभावित करते हैं. क्या वो कभी मिल पाते हैं. अगर वो मिलते हैं तो ये मुलाक़ात किन परिस्थितियों में होती है. यही फ़िल्म की कहानी है.

अलग कहानी

इमेज कॉपीरइट One By Two

देविका भगत की कहानी आम बॉलीवुड फ़िल्मों से बिलकुल अलग हटके है लेकिन दर्शकों का एक बहुत बड़ा वर्ग इससे अपने आपको जोड़ नहीं पाएगा. ऐसी कहानी, जिसके बड़े हिस्से में हीरो और हीरोइन मिल नहीं पाते लेकिन एक दूसरे की ज़िंदगी को प्रभावित करते हैं, उसे आम भारतीय दर्शक कितना पसंद करेंगे ये बड़ा सवाल है.

अमित का ये सोचना की वेबसाइट हैक करने की वजह से शो प्रोड्यूसर की नौकरी चली जाएगी, बड़ा दूरगामी लगता है. देविका का स्क्रीनप्ले बहुत सीमित दर्शक वर्ग को ही अपील करेगा.

सीमित अपील

इमेज कॉपीरइट One By Two

फ़िल्म का पहला हिस्सा बहुत बोरिंग है. इंटरवल के बाद कहानी में कुछ दिलचस्प मोड़ आते हैं. फ़िल्म का हास्य भी बेहद सीमित दर्शक वर्ग को ही पसंद आएगा.

(रिव्यू:'जय हो')

फ़िल्म में रोमांस की कमी है और इसका भावनात्मक पहलू भी कमज़ोर है. क्लाईमेक्स भी अलग हटके तो है लेकिन दिलचस्प ज़रा भी नहीं है.

फ़िल्म के संवाद मनोज तपाड़िया और देविका भगत ने लिखे हैं जिनकी सीमित अपील है.

अभिनय

इमेज कॉपीरइट AFP

अभय देओल ने बढ़िया काम किया है. वो अपने किरदार में पूरी तरह से घुस गए हैं और अपने रोल के साथ पूरा न्याय किया है.

प्रीति देसाई ने भी अच्छा काम किया है. वो बहुत बेहतरीन डांस करती हैं. रति अग्निहोत्री ने भी क़ाबिले तारीफ़ काम किया है. लिलेट दुबे भी बेहतरीन रही हैं. दर्शन जरीवाला का काम भी अच्छा है.

(रिव्यू:'मिस लवली')

देविका भगत का निर्देशन बहुत सीमित दर्शकों को ही पसंद आएगा. शंकर-एहसान-लॉय का संगीत अच्छा है. लेकिन गाने उतने लोकप्रिय नहीं हो पाए इसलिए वो भी फ़िल्म की कोई ख़ास मदद नहीं कर पाएंगे.

अमिताभ भट्टाचार्य के लिखे गाने फ़िल्म के मूड को अच्छी तरह से बयां करते हैं.

कुल मिलाकर वन बाय टू बहुत सीमित अपील वाली फ़िल्म है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार