रणवीर करेंगे कंडोम का विज्ञापन

  • 21 मार्च 2014
रणवीर सिंह इमेज कॉपीरइट BHansali Films

संजय लीला भंसाली की 'गोलियों की रासलीला राम-लीला' के बाद से रणवीर सिंह की लोकप्रियता काफ़ी बढ़ गई है और इसी लोकप्रियता को भुनाने के लिए कई कंपनियां उन्हें अपने उत्पाद के विज्ञापनों के लिए उनसे संपर्क कर रही हैं.

उनके पास गाड़ियों से लेकर कंडोम तक के विज्ञापन के लिए प्रस्ताव आ रहे हैं.

(रणवीर पर दीपिका क्या बोलीं ?)

हाल ही में उन्हें भारतीय बाज़ार की एक बड़ी कंडोम निर्माता कंपनी ने अपने ब्रांड एंबेसडर के तौर पर साइन किया.

रणवीर सिंह के मुताबिक़, देश के युवाओं को सुरक्षित सेक्स का संदेश देना ज़रूरी है, इस वजह से उन्होंने ये विज्ञापन साइन किया.

('रिश्तेदारों ने कहा भला-बुरा')

पिछले साल एक कंडोम निर्माता कंपनी ने अर्जुन रामपाल को विज्ञापन का प्रस्ताव दिया था लेकिन जब अर्जुन ने इसके लिए तक़रीबन छह करोड़ की फ़ीस मांगी तो कंपनी पीछे हट गई.

अभिनेत्री सनी लियोनी भी एक कंडोम के विज्ञापन में नज़र आती हैं.

कंगना ने बढ़ा दी फ़ीस

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कंगना रानाउत ने 'क्वीन' की कामयाबी के बाद अपनी फ़ीस बढ़ा दी है.

फ़िल्म 'क्वीन' के हिट होते ही कंगना रानावत को चारों ओर से तारीफ़ मिल रही हैं. और मारे ख़ुशी के कंगना ने अपनी फ़ीस भी बढ़ा दी है.

सुजॉय घोष की आने वाली फ़िल्म में काम करने के लिए कंगना ने साढ़े तीन से चार करोड़ रुपए तक की डिमांड कर दी जो सुजॉय ने पूरी भी कर दी.

(कंगना की 'ऊंची बातें')

इस फ़िल्म के लिए पहले विद्या बालन का नाम प्रस्तावित था लेकिन उन्होंने अपने आपको फ़िल्म से अलग कर लिया.

मनोज कुमार का ग़ुस्सा

मनोज कुमार की यादगार फ़िल्म 'शहीद' के 50 साल पूरे हो गए. शहीदे आज़म भगत सिंह के जीवन पर आधारित ये फ़िल्म साल 1965 में रिलीज़ हुई थी और बेहद कामयाब रही.

फ़िल्म का स्वर्ण जयंती समारोह मनाने के लिए मनोज कुमार ने मुंबई में इसकी स्पेशल स्क्रीनिंग का आयोजन किया लेकिन बाद में उसे रद्द कर दिया.

ग़ुस्से से भरे मनोज कुमार ने मीडिया को बताया, "शहीद के निर्देशक केवल कश्यप को भी यहां आना चाहिए था. मैंने उन्हें कई फ़ोन और मैसेज भेजे लेकिन वो नहीं आए. ये सिर्फ़ मेरी फ़िल्म तो है नहीं."

इस स्पेशल स्क्रीनिंग के लिए फ़िल्म के कलाकारों कामिनी कौशल और प्रेम चोपड़ा को भी बुलाया गया था.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार