मनोज कुमार नहीं चुका पाए नंदा का वो उधार…

नंदा इमेज कॉपीरइट manoj kumar

फ़िल्म अभिनेत्री नंदा के निधन के बाद मनोज कुमार की पहली प्रतिक्रिया थी, "अच्छा होता अगर ना पता लगता."

60 और 70 के दशक की मशहूर अभिनेत्री नंदा का मंगलवार सुबह अपने मुंबई स्थित घर पर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. वो 75 साल की थीं.

मनोज कुमार नंदा को याद करते हुए कहते हैं, "मैंने उनके साथ पहली फ़िल्म बेदाग़ की थी. वो मुझसे काफ़ी सीनियर थीं पर उन्होंने मुझे इस बात का एहसास भी नहीं होने दिया. कहते हैं कि औरत में एक हिस्सा ममता का भी होता है और नंदा जी में इसकी झलक साफ़ दिखती थी."

वो आगे कहते हैं "दूसरी फ़िल्म जो मैंने उनके साथ की वो थी गुमनाम जिसका थोड़ा बहुत हिस्सा मैंने लिखा था और निर्माताओं के कहने पर मैं उस फ़िल्म का निर्देशक भी बना और इस नाते मुझे नंदा जी जैसी बड़ी कलाकार को निर्देश भी देने थे. पर उन्होंने इतनी विनम्रता से मेरे साथ काम किया कि मैं उस दिन के बाद से उनका कायल हो गया."

नहीं चुका पाया नंदा का उधार

मनोज कुमार और नंदा की बेहद चर्चित फ़िल्म थी 'शोर'. मनोज कुमार ने बताया कि इस फ़िल्म के लिए पहले वो शर्मिला टैगोर को लेने वाले थे लेकिन बात नहीं बन पाई.

(रो पड़ीं वहीदा रहमान)

मनोज कुमार ने कहा, "फिर मैंने स्मिता पाटिल के पास इस किरदार को करने के लिए प्रस्ताव भेजा पर उन्होंने मना कर दिया. तब मेरी पत्नी शशि ने कहा कि आप नंदा को क्यों नहीं लेते? मैंने कहा कि अच्छा नहीं लगता वो इतनी बड़ी स्टार हैं और जिस काम को औरों ने मना किया हो वो उसे क्यों करेंगी?."

वे बताते हैं, “फिर मैंने अपनी पत्नी के कहने पर उन्हें फ़ोन किया और नंदा जी ने मुझे अपने घर बुलाया और कहा कि मैं एक शर्त पर आपकी ये फ़िल्म करूँगी और वो शर्त ये है कि मैं इस फ़िल्म के लिए आपसे एक रुपया नहीं लूंगी.”

मनोज कुमार ने ये कहते हुए अपनी बात ख़त्म की.

वो कहते हैं, "किसी के एहसान का बदला आप नहीं चुका सकते लेकिन फिर भी मैंने हर कोशिश की थी कि नंदा जी का एहसान उतार सकूं. लेकिन मैं ऐसा नहीं कर पाया…..!”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार