सुविधाओं के बिना हम कैसे जीतेंगे पदक: सलमान ख़ान

सलमान ख़ान इमेज कॉपीरइट Hoture
Image caption (फ़िल्म 'ख़्वाब' की टीम के साथ सलमान ख़ान)

बॉलीवुड स्टार सलमान ख़ान का मानना है कि अगर ओलंपिक जैसी अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में ज़्यादा से ज़्यादा पदक जीतने है तो खिलाड़ियों को दी जाने वाली सुविधाओं में ज़बरदस्त इज़ाफ़ा करना होगा और नए खिलाड़ियों की ट्रेनिंग पर ज़्यादा ध्यान देना होगा.

खेल पर आधारित एक फ़िल्म 'ख़्वाब' के म्यूज़िक लॉन्च पर पहुंचे सलमान ख़ान ने कहा, "मैंने फ़ुटबॉल, क्रिकेट, हॉकी से लेकर सभी तरह के खेल खेले हैं. मुझे लगता है देश की सेहत के लिए खेलों को प्रमोट करना बहुत ज़रूरी है."

('मैं बुरा बॉयफ़्रेंड हूं')

उन्होंने कहा, "हमारे यहां ट्रेनिंग की पर्याप्त व्यवस्था ही नहीं है. फिर हम क्यों कहते हैं कि हमने मेडल नहीं जीते, बेहतर प्रदर्शन नहीं किया. वगैरह-वगैरह. खिलाड़ियों का उत्साह बढ़ाने के लिए यहां कुछ है ही नहीं. मुझे लगता है कि पूरे देश को ही खिलाड़ियों का सपोर्ट करने की ज़रूरत है."

ग़रीबों के लिए हो कोटा

फ़िल्म 'ख़्वाब' की विषय वस्तु भी यही है. यह देश में एथलीटों को पेश आने वाली मुश्किलों पर आधारित फ़िल्म है. फ़िल्म बताती है कि खेल व्यवस्था में व्याप्त भ्रष्टाचार कैसे खिलाड़ियों को उनके सपने साकार होने से रोक देता है.

(आमिर का जवाब)

सलमान ख़ान ने कहा, "उपकरणों और कोचिंग पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत है. साथ ही ग़रीब खिलाड़ियों के लिए अलग से कोटा होना चाहिए. इन छोटी-छोटी बातों से बड़े बदलाव आएंगे."

साथ ही सलमान ने छोटी फ़िल्मों को अपना सपोर्ट देने की इच्छा जताई. उन्होंने कहा, "कई छोटे बजट की फ़िल्में बड़े पैशन से बनाई जाती हैं लेकिन पैसे की कमी की वजह से रिलीज़ भी नहीं हो पातीं. हमें ऐसी फ़िल्मों को सपोर्ट करने की ज़रूरत है."

हालांकि हाल ही में रिलीज़ हुई फ़िल्म 'ओ तेरी' (जिसे सलमान ख़ान ने काफ़ी प्रमोट किया) सुपरफ़्लॉप हो गई. फ़िल्म को सलमान ख़ान के जीजा अतुल अग्निहोत्री ने बनाया था.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार