बीबीसी हैंगआउट- मुज़फ़्फ़र अली

इमेज कॉपीरइट agency

मुज़फ़्फ़र अली फ़िल्में बनाते हैं, फ़ैशन डिज़ाइनिंग करते हैं, सूफ़ी साहित्य और संगीत को लोगों तक पहुंचाने की अपनी ही मुहिम में लगे हैं.

यूं तो वह अपने शानदार शाहकार फ़िल्म ‘उमराव जान’ के लिए जाने जाते हैं, लेकिन फ़िलहाल चर्चा में हैं क्योंकि इन्हें दिया जा रहा है राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार.

फ़िल्म जगत से संबद्ध कुछ हस्तियों को अब तक यह पुरस्कार मिला है- लता मंगेशकर, दिलीप कुमार और सुनील दत्त.

बेहद ख़ामोशी के साथ अपनी ही दुनिया में बसर करने वाले मुज़फ्फर अली ग्लैमर-जगत का हिस्सा हैं लेकिन उसमें खो गए हों ऐसा कभी नहीं लगा.

अपनी अभिव्यक्ति के लिए विभिन्न माध्यमों का इस्तेमाल क्या सिर्फ़ शौक़ है या कोई मक़सद.

सवाल काफ़ी हैं और इसलिए लाज़मी था कि उन्हें स्टूडियो बुलाया जाए.

बीबीसी हिंदी की इस विशेष प्रस्तुति में हमारी कोशिश है आपके सामने एक बहुरंगी शख़्सियत को लाने की.

आप चाहें तो हमारे फ़ेसबुक पेज पर आकर सवाल पूछ सकते हैं.

आप इस बातचीत का सीधा प्रसारण देख सकते हैं हमारे यूट्यूब पेज पर यहां -

https://www.youtube.com/user/bbchindi

मेहमानों के आने का सिलसिला चलता रहेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार