क्या पाकिस्तान में सेंसर होगा ये 'किस'?

  • 11 अगस्त 2014
हुमैमा मलिक

वह पाकिस्तान की चहेती अभिनेत्री हो सकती हैं लेकिन देश की सबसे महंगी स्टार हुमैमा मलिक इस बात से डरी हुई हैं कि उनकी पहली बॉलीवुड फ़िल्म में भारतीय अभिनेता इमरान हाशमी के साथ उनके अंतरंग 'किसिंग सीन' को लेकर पाकिस्तानी दर्शकों की क्या प्रतिक्रिया होगी?

इस सीन के साथ ही मलिक उन पाकिस्तानी अभिनेत्रियों की जमात में शामिल हो गई हैं जो सरहद पारकर भारत चली गईं. कुछ लोगों की नज़रों में यह बदनामी की हद पार करने जैसा है.

पाकिस्तान की एक अन्य अभिनेत्री वीना मलिक की, पुरुषों की एक भारतीय पत्रिका के मुख्य पृष्ठ पर निर्वस्त्र तस्वीर पहले ही हंगामा खड़ा कर चुकी है.

इस तस्वीर में उनकी बाहों पर पाकिस्तान की कुख्यात ख़ुफ़िया एजेंसी का संक्षिप्त नाम, आईएसआई, का टैटू गुदा हुआ है.

हालांकि मलिक तबसे लंदन में देखी जा रही हैं और बीबीसी उर्दू सेवा के साथ जब उन्होंने साक्षात्कार दिया तो वो भारी भरकम बुरके में दिखीं.

सेंसर की कैंची

लेकिन शोहरत और पैसे के लिए सीमा पार करने वाली इन लड़कियों के ख़िलाफ़ दकियानूसी पाकिस्तान में हमेशा ही बहुत कड़ी प्रतिक्रया रही है.

लोगों को लगता है कि दुश्मन को 'किस' करना और भारतीय पत्रिका के साथ साठ-गांठ करना जायज़ नहीं है. वास्तव में अभी हाल तक, पाकिस्तान में दिखाई जाने वाली फ़िल्मों में 'किस सीन' को निरपवाद रूप से सेंसर किया जाता था.

फ़िल्मों के काफ़ी काट-छांट के कारण नब्बे के दशक में सिनेमा देखने वालों की संख्या में गिरावट आ गई थी.

लेकिन नई बॉलीवुड और पश्चिमी फ़िल्मों के पूरी दुनिया में एक साथ रिलीज़ किए जाने के साथ ही पाकिस्तानी दर्शक अब उत्साह के साथ फ़िल्में देखने जाने लगे हैं.

पाकिस्तानी फ़िल्में

अब, विदेशी फ़िल्मों के अलावा ब्लॉकबस्टर बॉलीवुड फ़िल्मों के साथ-साथ जिंदा भाग, वार व मैं हूं शाहिद अफ़रीदी जैसी पाकिस्तानी फ़िल्में भी देखी जा रही हैं.

हुमैमा मलिक के किस सीन के पाकिस्तानी सेंसर से पास होने की कम ही उम्मीद है. क्योंकि लगता है कि पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड भारतीयों के साथ इस तरह की क़रीबी दोस्ती को देशप्रेम के नज़रिए से पचा नहीं पाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार