'ग़ुलाम' बॉलीवुड को चाहिए 'आज़ादी'

  • 15 अगस्त 2014
'किक' इमेज कॉपीरइट Sajid Nadiadwala

भारतीय स्वतंत्रता दिवस के मौक़े पर बात कर लेते हैं बॉलीवुड की. वो कौन सी बातें हैं जिन्होंने बॉलीवुड को ग़ुलाम बनाया है और जिनसे इसे चाहिए आज़ादी. फ़िल्म समीक्षक नम्रता जोशी के मुताबिक़ बॉलीवुड को कुछ बातों से फ़ौरन आज़ादी चाहिए.

1. सौ करोड़ की रेस

बॉलीवुड को सौ करोड़ के जुनून से आज़ाद होने की सख़्त ज़रूरत है. आजकल हर फ़िल्म से सौ करोड़ कमाने की उम्मीद की जा रही है.

वहीं सच ये है कि तीन दिन में सौ करोड़ कमाने वाली फ़िल्मों को लोग 15 दिन में भूल जाते हैं.

पिछले कुछ सालों पर नज़र डालें तो सिर्फ़ 'थ्री इडियट्स' ऐसी फ़िल्म थी जिसमे कमाई भी की और जिसे लोग आज भी याद रखते हैं.

2. फूहड़ कॉमेडी

इमेज कॉपीरइट Fox Star Studios

एक ही तरह की कॉमेडी बन रही हैं. इसमें पॉलिटिकली इनकरेक्ट ह्यूमर होता है. लोगों के शारीरिक विकार को मज़ाक के तौर पर पेश किया जाता है. इस तरह की कॉमेडी से बॉलीवुड को आज़ादी चाहिए.

3. गायन और अभिनय

इमेज कॉपीरइट himesh reshamiya

कोई भी कुछ भी करने लगा है. इस बेतुकेपन से बॉलीवुड को चाहिए आज़ादी. हिमेश रेशमिया एक्टिंग करते हैं. सलमान ख़ान और आलिया भट्ट गाना गाते हैं.

तकनीक इतनी उन्नत हो गई है कि बेसुरे लोगों की आवाज़ भी सुनने लायक तो बन ही जाती है.

लेकिन हमें तकनीक के इस्तेमाल से बनाई आवाज़ें नहीं चाहिए.

हिमेश रेशमिया एक्टिंग से पहले देख लें कि रोल कैसा है उस हिसाब से फिर एक्टिंग करें और मुमकिन हो तो एक्टिंग ही ना करें.

4. आइटम नंबर

इमेज कॉपीरइट Shootout at Wadala

बहुत हुआ. अब बेसिरपैर के आइटम नंबरों से हमें आज़ादी चाहिए. तकरीबन हर आइटम नंबर एक जैसा लगता है.

इसमें एक से लिबास पहने हीरोइन, एक जैसे दिखने वाले एक्स्ट्रा डांसर (जिनमें से ज़्यादातर विदेशी लड़कियां होती हैं) के साथ एक जैसे स्टेप्स करती हैं.

और इन गानों का फ़िल्म से कोई लेना-देना नहीं होता.

5. हिंदी से अनजान हीरोइन

इमेज कॉपीरइट AFP

हिंदी फ़िल्मों के लिए हिंदी ना जानने वाली हीरोइनों से आज़ादी चाहिए. कटरीना कैफ़ जैसी हीरोइन हैं जिनसे हिंदी आती ही नहीं.

लेकिन चूंकि वो सुंदर हैं तो बस चले जा रही हैं. हिंदी बोलती भी हैं तो ऐसे अंग्रेज़ी लहज़े में कि बस भगवान बचाए.

6. रीमेक

इमेज कॉपीरइट R.Rajkumar

हर दूसरी फ़िल्म किसी दक्षिण भारतीय फ़िल्म का रीमेक होती है. और अच्छी फ़िल्म का रीमेक बने तो बात भी ठीक.

वही घिसी पिटी थीम पर बनी बेमतलब की मारधाड़ वाली तमिल या तेलुगू फ़िल्मों का रीमेक अब नाक़ाबिले-बर्दाश्त होता जा रहा है.

7. चरित्र-चित्रण

इमेज कॉपीरइट Bhansali Films

मज़बूत महिला के किरदार का घिसा पिटा चित्रण. इससे बॉलीवुड को आज़ादी चाहिए.

महिला को मज़बूत दिखाना है तो ज़रूरी तो नहीं कि वो गन ही चलाए, आक्रामक हो, लोगों को गालियां दें.

चाहे वो 'रामलीला' की दीपिका पादुकोण हों या 'मटरु की बिजली का मंडोला' की अनुष्का. सारे किरदार एक जैसे लगते हैं.

आप महिला सशक्तिकरण को दूसरे तरीके से भी दिखा सकते हो. मानसिक मज़बूती की बात कर सकते हो.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार