रजनीकांत की राजनीति 'भगवान भरोसे'

इमेज कॉपीरइट AFP

सुपरस्टार रजनीकांत ने अपनी राजनीतिक पारी शुरू करने के सवाल का जबाव 'भगवान की इच्छा' पर छोड़ दिया है लेकिन अब अटकलों का बाज़ार गर्म है.

जब रजनीकांत से पूछा गया कि क्या वो किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़ेंगे तो उन्होंने कहा कि वे 'भगवान की मर्ज़ी' के मुताबिक काम करेंगे.

ख़बरों के मुताबिक़ तमिलनाडु के भाजपा अध्यक्ष टी सौन्दर्य राजन ने कहा है कि रजनीकांत की भाजपा से काफ़ी नज़दीकी है. जब अटल बिहारी वाजपेयी ने नदियां जोड़ने की अहमियत पर ज़ोर दिया था तब रजनीकांत ने एक करोड़ रूपये का योगदान दिया था.

मर्दानी के विलेन पर फ़िदा रानी

इमेज कॉपीरइट yashraj films

मर्दानी में भले ही रानी मुखर्जी विलेन बने ताहिर राज भसीन पर लात-घूंसे बरसाती हैं लेकिन इस विलेन पर वो फ़िदा हैं.

रानी कहती हैं कि मुझे इस बात की बेहद ख़ुशी है कि इंडस्ट्री में मौजूद इस प्रतिभा को लोगों ने पहचाना. फ़िल्म में मुझे तो देखा ही पर ताहिर भी लोगों की नज़र में आए हैं. ये बहुत ख़ुशी की बात है.

ख़ास बात ये है कि ताहिर की यह दूसरी ही फ़िल्म थी और उनकी तारीफ़ आमिर ख़ान ने भी ट्विटर पर की है.

काजोल और करन जौहर में दरार

काजोल और फिल्मकार करण जौहर करीबी दोस्त हैं पर अब शायद दोनों के रिश्तों में खटास आ गई है.

ऐसी खबरें आ रही थीं कि दोनों के बीच अब सब कुछ ठीक नहीं है.

हाल ही में हुए एक फैशन शो में मनीष मल्होत्रा के शो के लिए काजोल और करण दोनों मौजूद थे पर दोनों ही एक दूसरे से दूरी रखते नज़र आए.

जहां काजोल अकेले रैंप पर उतरीं वहीं करण जौहर अपनी गौरी शिंदे के साथ नज़र आए.

ख़बरें तो यह भी हैं कि काजोल और यशराज फ़िल्म्स के बीच भी दूरियां बढ़ी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)