एक अदद पित्ज़ा के लिए एड़ी चोटी का ज़ोर

काक्का मुत्तई इमेज कॉपीरइट kakka muttai

पित्ज़ा खाना किसी के लिए उसकी ज़िंदगी का सपना भी हो सकता है यही दिखाती है फ़िल्म 'काक्का मुत्तई'.

कनाडा के टोरंटो शहर में हर साल होने वाले 'टोरंटो फ़िल्म महोत्सव' में दिखाई गई इस तमिल फ़िल्म ने दर्शकों और ज्यूरी की ख़ूब वाहवाही बटोरी.

'काक्का मुत्तई' का अर्थ होता है कौवे का अंडा और इस फ़िल्म के निर्माता हैं 'कोलावेरी' से मशहूर हुए भारतीय फ़िल्म कलाकार धनुष.

मामला क्या है ?

फ़िल्म की कहानी चेन्नई की झुग्गियों में पल रहे दो बच्चों के इर्द गिर्द घूमती है जिनका एक छोटा सा ख़्वाब है एक बार पेट भर कर पित्ज़ा खाना.

इमेज कॉपीरइट Kakka muttai

कूड़ा बीनने वाले इन दो बच्चों के पिता जेल में हैं और परिवार दाने दाने को मोहताज है.

उनकी ज़िदंगी में पित्ज़ा तब दखल देता है जब बच्चों के खेल के मैदान पर पित्ज़ा पार्लर खुल जाता है.

पित्ज़ा से रूबरू होने के बाद बाल मन में नई चीज़ों के प्रति जो आकर्षण उठता है उसे बड़ी खूबसूरती से पर्दे पर उतारा है निर्देशक मणिकानंदन ने जिनकी यह पहली फ़ीचर फ़िल्म है.

मार्मिक चाहत

इमेज कॉपीरइट kakka muttai

कहानी का सार तो सिर्फ़ 300 रूपए के पित्ज़ा की चाहत के इर्द गिर्द ही घूमता है लेकिन गरीबी की बेबसी और तेज़ दौड़ती दुनिया में पीछे छूट रही मानवीय संवेदनाओं को भी आईना दिखाता है.

फ़िल्म के एक दृश्य में दोनों बच्चे ये सोचकर अपने पालतू कुत्ते को बेचने निकल जाते हैं कि उससे 25 हज़ार रूपए लिए जा सकते हैं. अपने कुत्ते को बेचने का दर्द और फिर दुनिया के लिए उसकी कीमत के एहसास को महसूस करने का बड़ा ही मार्मिक चित्रण किया गया है.

निर्देशक मणिकानंदन ने बताया "मेरा ध्यान भारत की ग़रीबी दिखाने पर नहीं इंसान की चाहत पर है और चाहतें हम सब रखते हैं."

'स्लमडॉग मिलेयनेयर' से तुलना

इमेज कॉपीरइट AFP

2008 में ऑस्कर समारोह में छा जाने वाली फ़िल्म 'स्लमडॉग मिलेयनेयर' भी भारत के ग़रीब परिवारों पर आधारित थी और उस फ़िल्म को भी टोरंटो महोत्सव में प्रदर्शित किया गया था.

फ़िल्म के निर्माता वीत्री मारन ने कहा "इस फ़िल्म में भाषा के बंधन तोड़ने की ताकत है और जो फ़िल्म ऐसा कर पाती है वो ऑस्कर से भी आगे निकलती है."

दो करोड़ के बजट में बनी 'काक्का मुत्तई' भारत में दीवाली के आस पास रिलीज़ हो सकती है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार