अब मोम में ढलेंगी कटरीना

  • 15 अक्तूबर 2014
अभिनेत्री कटरीना कैफ़ इमेज कॉपीरइट Madam Tussauds

लंदन के मशहूर मैडम तुसॉद म्यूज़ियम में एक और बॉलीवुड हस्ती की मूर्ति लगने जा रही है. फ़ैन्स की वोटिंग में अभिनेत्री कटरीना कैफ़ को इसके लिए चुना गया है.

कटरीना कैफ़ का संबंध ब्रिटेन से है और उन्होंने 2003 में हिंदी फ़िल्मों में काम करना शुरू किया जिसके बाद से वह सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ती गईं.

दक्षिण एशियाई मूल के लोग मैडम तुसॉद म्यूज़ियम में बड़ी संख्या में आते हैं. यहाँ लगे बॉलीवुड सितारों के पुतले बड़ा आकर्षण हैं और आमदनी का ज़रिया भी.

प्रशंसकों का शुक्रिया

मैडम तुसॉद म्यूज़ियम के बयान के मुताबिक 20 कलाकार कैटरीना के पुतले पर काम करेंगे और इस पर एक लाख 50 हज़ार पाउंड का ख़र्च आएगा.

कलाकारों के साथ मिलकर कटरीना ने पुतले का लुक और लिबास तय किया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कलाकारों के साथ मिलकर कटरीना कैफ़ ने पुतले का लुक और लिबास तय किया है.

अगले साल यानी 2015 में मोम के पुतले को म्यूज़ियम में लोगों के सामने रखा जाएगा.

म्यूज़ियम की वेबसाइट पर एक वीडियो में कटरीना ने अपने फ़ैन्स का शुक्रिया अदा किया है.

अगर फ़िल्मी सितारों की बात करें तो आम तौर पर पहले मैडम तुसॉद म्यूज़ियम में पश्चिमी देशों के स्टार ही दिखाई देते थे. लेकिन साल 2000 में पहली दफ़ा अमिताभ बच्चन का पुतला म्यूज़ियम में रखा गया.

कैसे होती है तैयारी

उसके बाद पिछले 14 सालों में शाहरुख़ ख़ान, सलमान ख़ान, ऋतिक रोशन, करीना कपूर, ऐश्वर्या राय जैसे भारतीय सितारों के पुतले मैडम तुसॉद म्यूज़ियम में बनाए और रखे गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

यहाँ रखा मोम का पुतला बनाने में कलाकारों की काफ़ी मेहनत लगती है. हर सेलिब्रिटी के साथ कलाकार करीब दो घंटे बिताते हैं जिसमें 500 अलग-अलग तरह के माप लिए जाते हैं.

एक पुतला बनाने में करीब चार महीनों का वक़्त लगता है. कई सितारे पुतलों को पहनाने के लिए अपने ख़ुद के कपड़े देते हैं.

अभी इसी साल अगस्त में करीना कपूर ने अपने पुतले को नया लुक देने में मदद की और अपनी नई साड़ी म्यूज़ियम को दी थी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार