खलनायक बनने से डर गए थे गोविंदा

इमेज कॉपीरइट Yashraj

बॉलीवुड के 'हीरो नंबर वन' गोविंदा जल्द विलेन के रूप में नज़र आने वाले हैं.

रणवीर सिंह, अली ज़फ़र और परिणीति चोपड़ा के साथ उनकी फिल्म 'किल दिल' बनकर तैयार है.

इस फिल्म और अपने हालिया दौर के बारे में गोविंदा ने बीबीसी से ख़ास बातचीत की है.

पहली बार यशराज की फ़िल्म

इमेज कॉपीरइट Yashraj

28 साल लंबे अपने फ़िल्मी करियर में गोविंदा पहली बार किसी फ़िल्म में खलनायक बने हैं.

इससे पहले एन चंद्रा की फ़िल्म शिकारी में उनका किरदार नकारात्मक था लेकिन गोविंदा ने कहा, "शिकारी का किरदार ग्रे शेड्स लिए हुए था. किल दिल में मैं पूरी तरह से खलनायक बना हूं."

'किल दिल', यशराज बैनर के साथ गोविंदा के करियर की पहली फ़िल्म है. ऐसे में ये रोल करते वक्त क्या गोविंदा के मन में कोई झिझक थी?

गोविंदा कहते हैं, "मुझे विश्वास नहीं था कि मैं निगेटिव रोल कर पाऊंगा. मैंने निर्देशक शाद अली और आदित्य चोपड़ा से कहा था कि दो-तीन दिन की शूटिंग के बाद अगर तुम्हें मेरा काम पसंद ना आए तो मैं ही तुम्हें समझा दूंगा, कोई अच्छा-सा बहाना बनाकर मुझे निकाल देना"

'मैं पेशेवर हूं'

इमेज कॉपीरइट pr

पिछले कई सालों से गोविंदा किसी फिल्म में लीड रोल में नज़र नहीं आएं हैं. बल्कि कुछ फ़िल्मों में छोटे रोल करने के अलावा वो कुछ छोटे-मोटे प्रोडक्ट के प्रचार में ही दिखे.

क्या कथित तौर पर लोगों का भला करने का दावा करने वाले ऐसे उत्पादों का विज्ञापन करके वो अंधविश्वास को बढ़ावा नहीं दे रहे थे?

गोविंदा बोले, "हम सिर्फ़ प्रचार करते हैं. ख़रीदना या ना ख़रीदना ग्राहक का फ़ैसला होता है. मैं कोई चीज़ उन पर थोप तो नहीं रहा हूं.''

''मैं पेशेवर आदमी हूं. मैं उस उत्पाद का प्रचार कर रहा हूं. उसे ख़ुद नहीं बेच रहा हूं."

बेटी से उम्मीदें

इमेज कॉपीरइट Hoture

गोविंदा की बेटी नर्मदा भी जल्द ही फ़िल्मों में नज़र आने वाली हैं. उनके बारे गोविंदा कहते हैं, "उन्होंने पंजाबी कलाकार गिप्पी ग्रेवाल के साथ फ़िल्म साइन की है. उन्होंने काफ़ी लंबा वक़्त लिया किसी फ़िल्म को चुनने में. नई पीढ़ी है. हर काम सोच-समझ कर करती है."

नर्मदा के अलावा गोविंदा के बेटे यशवर्धन भी एक्टिंग की ट्रेनिंग ले रहे हैं.

( बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित समाचार