अपने ही सीरियल क्यों नहीं देखतीं एकता?

एकता कपूर इमेज कॉपीरइट HOTURE

एकता कपूर को टीवी क्वीन कहा जाता है, जो अपने ग़ुस्से के लिए भी जानी जाती हैं.

उनके बनाए कई सीरियल ज़बरदस्त लोकप्रिय हैं, लेकिन वो ख़ुद अपने डेली सोप देखना पसंद नहीं करतीं.

एकता कपूर से ख़ास मुलाक़ात

इमेज कॉपीरइट HOTURE

टीवी पर सास-बहू सीरियल की प्रथा चलाने का क्रेडिट ऐकता कपूर को दिया जाता है.

लेकिन जहां उनके बनाए कार्यक्रम पारिवारिक पुट लिए होते हैं वहीं उनकी फ़िल्में ख़ासी बोल्ड होती हैं.

क्या सुपरकूल हैं हम और रागिनी एमएमएस जैसी फ़िल्में उन्हीं के प्रोडक्शन हाउस से निकली हैं.

इस अंतर पर वो कहती हैं, "टीवी, पूरा परिवार मिलकर देखता है. तो हमें सावधान रहना पड़ता है. लेकिन फ़िल्मों के साथ हम प्रयोग कर सकते हैं. टीवी और फ़िल्मों में यही मूल अंतर है."

लंबे धारावाहिक

इमेज कॉपीरइट EKTA KAPOOR

एकता कपूर लंबे धारावाहिक बनाने के लिए कई बार आलोचना भी झेल चुकी हैं. उऩका बनाया कार्यक्रम क्योंकि सास भी कभी बहू थी टीवी पर तक़रीबन 10 साल चला.

कहानी को ज़रूरत से ज़्यादा खींचने की वजह क्या होती है?

एकता कपूर कहती हैं, "कई बार असल कहानी ख़त्म हो जाने के बाद उसे आगे ले जाने के लिए काफ़ी मेहनत करनी पड़ती है. व्यवसायिक प्रतिबद्धताएं होती हैं. कई बार प्लॉट जल्दबाज़ी में तैयार करना पड़ता है. सीन स्लो मोशन में दिखाकर वक़्त भी बर्बाद करना पड़ता है."

अफ़सोस

इमेज कॉपीरइट HOTURE

एकता कपूर को अपने महत्वकांक्षी धारावाहिक महाभारत को मन माफ़िक कामयाबी ना मिलने का अफ़सोस है.

वो कहती हैं, "मैंने महाभारत के लिए काफी रिसर्च की थी. पूरे चार महीने तक कुछ और नहीं किया. लेकिन जब बात पौराणिक कथाओं की आती है तो भारतीय दर्शक कुछ असहज हो जाते हैं. दरअसल, यह उनकी आस्था से जुड़ी बात होती है. ऐसे में आप किसी बात का पूर्वानुमान लगा ही नहीं सकते. हम शायद महाभारत को लेकर लोगों की रुचि का सही अंदाज़ा नहीं लगा पाए."

एकता के मुताबिक़ लोगों ने महाभारत को लेकर पहले से जो छवि बना रखी है वो उसी में ख़ुश हैं. किसी तरह का बदलाव देखना उन्हें पसंद नहीं.

पाकिस्तानी शो

इमेज कॉपीरइट zindagi

नए चैनल ज़िंदगी पर प्रसारित होने वाली पाकिस्तानी शोज़ की बढ़ती लोकप्रियता पर एकता कपूर क्या सोचती हैं?

उन्होंने कहा, "पाकिस्तान के लोग भारत के कार्यक्रमों को पसंद करते हैं, जबकि यहां के दर्शकों को वहां के कार्यक्रम पसंद आते हैं. हम यहां लार्जर दैन लाइफ के सीन गढ़ते हैं और वहां पर असलियत को ज़्यादा तवज्जो दी जाती है. शायद यही वजह है कि आम ज़िंदगी के ज़्यादा करीब होने की वजह से इन कार्यक्रमों को भारत में लोग पसंद कर रहे हैं."

एकता कपूर, जल्द ही क्रिकेट पर आधारित रियलिटी शो बॉक्स क्रिकेट लीग लेकर टीवी पर आ रही हैं, जिसमें टीवी और फ़िल्मी सितारे होंगे.

एकता कपूर क्या अपने बनाए कार्यक्रम टीवी पर देखती हैं.

जवाब मिला, "जी नहीं. वो कार्यक्रम देखती हूं तो काम याद आ जाता है. इससे बेहतर मैं संगीत सुनना या ध्यान करना पसंद करती हूं."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार